-सिटी मजिस्ट्रेट ने उपस्थिति पंजिका में चढ़ाई गैर हाजिरी, मांगा जवाब

क्चन्क्त्रश्वढ्ढरुरुङ्घ

: बेसिक शिक्षा विभाग में अफसर व कर्मचारियों की मनमानी की पोल सैटरडे को सिटी मजिस्ट्रेट के छापेमारी में खुल गई. दोपहर में उन्होंने कार्यालय पहुंचकर बीएसए से लेकर 11 बाबुओं को गैर हाजिर पकड़ लिया. उपस्थिति पंजिका में उनकी गैर हाजिरी चढ़ा दी. विभागीय अफसरों को जवाब तलब करके डीएम को भेजने की रजिस्टर में प्रविष्टि दर्ज की. छापेमारी के दौरान बीएसए कार्यालय में हड़कंप मच गया.

बीएसए नहीं मिली आफिस

विकास भवन सभागार कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के बाद बीएसए दफ्तर की ओर गाड़ी मोड़ दी. कार्यालय में पहुंचे तो बीएसए अपने कक्ष में नहीं मिली. उन्होंने राजकीय व परिषदीय बाबूओं की उपस्थिति पंजिका कब्जे में ले ली. पंजिका में दर्ज नामों को पुकार कर एक-एक बाबू को बीएसए के कक्ष में हाजिर कराया. जिस पर राजकीय 14 में से सिर्फ क्रमांक 7, 9,10, 12,15 को छोड़कर अन्य अनुपस्थित मिले. वहीं, परिषद के 11 में से मात्र 5 व 8 क्रमांक पर नाम दर्ज वाले बाबू गैर हाजिर मिले.

उपस्थित बता, अब बचाव में जुट सिटी मजिस्ट्रेट के हस्ताक्षर के बाद रजिस्टर में सीएल व ईएल चढ़ाकर चढ़ा दी गई. जैसे ही पता चला कि सिटी मजिस्ट्रेट रजिस्टर की फोटो खींच ले गए हैं तो बचाव का दूसरा रास्ता खोजने लगे. जहां परिषद के अनुपस्थित बाबुओं में से एक ने स्वयं को बैंक कार्य में व्यस्त होने की वजह से हस्ताक्षर नहीं कर उपस्थित होने का दावा किया. जबकि दूसरे के पैर के ऑपरेशन के कारण नहीं आने की बात कही. बताया, उनका अवकाश प्रार्थना पत्र रजिस्टर में रखा होने की दलील दी. वहीं, राजकीय के कुछ बाबुओं ने को खाना खाकर हाथ धोने तथा लंच के बाद सीट से उठने की बात की. आरोप लगाया, अफसर ने इस तथ्य को अनदेखा कर हाजिरी दर्ज होने के बाद भी अनुपस्थित बता दिया.