-दो टीचर्स मिले गैरहाजिर, बीएसए ने सभी एबीआरसी को दी प्रतिकूल प्रविष्टि

>BAREILLY

गवर्नमेंट स्कूल्स में एजुकेशन लेवल कैसा है. इसका इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि पांचवी क्लास के छात्र हिंदी भी नहीं पढ़ सके. वेडनसडे को बीएसए एश्वर्या लक्ष्मी यादव ने स्कूल्स का इंस्पेक्शन में इस बात पर टीचर्स को खूब फटकार लगाई. वहीं मझगवां और क्यारा ब्लॉक में एबीआरसी का कामकाज देख रहे सभी शिक्षकों को प्रतिकूल प्रविष्टि दी.

दो स्कूल्स का किया निरीक्षण

वेडनसडे को बीएसए ने प्राथमिक विद्यालय खजुहाई और उच्च प्राथमिक विद्यालय नंदगांव का दौरा किया. इस दौरान बीएसए ने पांचवी क्लास के स्टूडेंट्स से हिन्दी की किताब पढ़ने कहा, लेकिन वह किताब नहीं पढ़ सके. इस पर बीएसए ने शैक्षिक गुणवत्ता पर हैरानी जताई. वहीं दो टीचर्स बगैर सूचना के स्कूल से नदारद मिले. जो बीआरसी पर एबीआरसी का कार्यभार देख रहे थे. इस पर बीएसए ने दोनों एबीआरसी को प्रतिकूल प्रविष्टि दी.

15 दिन के अंदर करें सुधार

इसके बाद बीएसए का काफिला उच्च प्राथमिक विद्यालय नंदगांव पहुंचा. यहां भी बीएसए ने स्टूडेंट्स से हिन्दी की किताब पढ़वाई. यहां भी पहले जैसा हाल रहा. बीएसए ने नाराजगी जताते हुए 15 दिन के अंदर शिक्षा का स्तर सुधारने के निर्देश दिए. वहीं बीएसए को शिकायत मिली कि मझगवां और क्यारा ब्लॉक में टीचर्स शैक्षिक कार्य छोड़कर एबीआरसी का कार्यभार देख रहे हैं. इस कारण शिक्षा का स्तर गिर रहा है. बीएसए ने मझगवां और क्यारा ब्लॉक के सभी शिक्षकों को प्रतिकूल प्रविष्टि दी है.