क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: अपराधियों ने शुक्रवार की शाम जिस पूर्व एसपीओ बुद्धू दास की गोली मारकर हत्या कर दी. उस मामले में बबलू कुम्हार पर हत्या का आरोप लगा है. इस कांड के खुलासे के लिए गोंदा थाना पुलिस और बुंडू पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी है. इस दौरान पुलिस को पता चला है कि बुद्धू दास छह सितंबर की शाम को बुंडू में ही था और वह बबलू कुम्हार से भी मिला था. दोनों एक ही साथ बुंडू में जमीन का कारोबार करते थे. हालांकि, बस स्टैंड को लेकर दोनों के बीच तनातनी थी, लेकिन यह प्रत्यक्ष रूप से उजागर नहीं हुआ था. उसकी पत्‍‌नी सुकरमणि ने पुलिस को बताया कि उसके पति को बबलू ने ही मरवाया है. गौरतलब हो कि शुक्रवार की शाम आठ बजे मुख्यमंत्री आवास और पुलिस लाइन गेट के बीच पूर्व एसपीओ (स्पेशल पुलिस अफसर) बुद्धू दास की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी. घटना के वक्त बुद्धू दास स्कूटी से पत्‍‌नी के साथ पुलिस लाइन स्थित अपने आवास की ओर जा रहा था.

शुक्रवार को बुंडू से लौटा था बुद्धू दास

बुद्धू दास गुरुवार को बुंडू स्थित अपने आवास गया था. बुंडू में स्टैंड को लेकर बबलू से उसकी बातचीत हुई थी. बबलू बार-बार बुद्धू पर दबाव बना रहा था कि स्टैंड का काम छोड़ दे. बुद्धू शुक्रवार की शाम बुंडू से सीधे समाहरणालय स्थित कैंटीन पहुंचा और पत्‍‌नी के साथ खाना खाने के बाद घर निकल गया.

पहले नक्सली थे बुद्धू व सुकरमणि

बुद्धू और उसकी पत्‍‌नी सुकरमणि देवी पहले नक्सली थे. वर्ष 2011 में सुकरमणि ने सरेंडर किया था. पत्‍‌नी के सरेंडर के बाद पुलिस ने बुद्धू को एसपीओ बना दिया था. कुछ साल पहले उसने एसपीओ का काम छोड़ दिया था. उसकी पत्‍‌नी अपनी बहन के साथ मिलकर समाहरणालय में कैंटीन चलाती है.

पुलिस लाइन में स्टाफ क्वार्टर में रहता था दंपती

एसएसपी अनीश गुप्ता का कहना है बुद्धू दास और उसकी पत्‍‌नी सुकरमणि पिछले छह साल से पुलिस लाइन के स्टाफ क्वार्टर में रहते थे.

धनंजय व सूरज उरांव पर भी शक

बुद्धू दास के साथ धनंजय और सूरज उरांव भी रहते थे. आशंका है कि बुंडू स्टैंड और वहां की जमीन को लेकर हुई अदावत में ही बुद्धू दास की हत्या कर दी गई है. सूरज उरांव को भी पुलिस एक सूत्रधार मानकर ढूंढ रही है. सूरज उरांव दो माह से बुंडू से लापता है.