CHAKRADHARPUR: मंगलवार को चक्रधरपुर प्रखंड के बांझीकुसुम प्राथमिक विद्यालय के छत का प्लास्टर गिरने से कक्षा में पढ़ रहे चार बच्चे घायल हो गए. इनमें एक की हालत गंभीर है, जिसे रेफर कर दिया गया है. हादसा के समय कक्षा चार व पांच के 61 बच्चे कमरे में बैठे थे. करीब साढ़े 12 बजे चौथी व पांचवीं कक्षा के च्च्चों के कमरे की छत का प्लास्टर अचानक गिर गया. बच्चों को सहायक शिक्षिका पढ़ा रही थी. पीछे की ओर बैठे बच्चों पर प्लास्टर गिरते ही चीख-पुकार व अफरा-तफरी मच गई. शिक्षक व बच्चे कमरे से बाहर भागे. प्रभारी प्रधानाध्यापिका सुमित्रा महतो कारमेल स्कूल गुरू गोष्ठी में शामिल होने गई थी. सहायक शिक्षिका ने हादसे की सूचना प्रभारी प्रभारी प्रधानाध्यापिका को दी तो वह स्कूल के लिए रवाना हुई और सभी घायल बच्चों को इलाज के लिए अनुमंडल अस्पताल लाया गया. कक्षा पांच के छात्र राज मोहन बोदरा के सिर में गंभीर चोट लगी है, जिसे प्राथमिक उपचार के बाद रेफर कर दिया गया. जबकि कक्षा चार के सूरज जोंको, आसमान गोप व कक्षा पांच के प्रताप जोंको को हल्की चोट लगी है. घटना के बाद स्कूल बंद कर दिया गया. वहीं मध्याह्न भोजन के बदले बच्चों को नास्ता देकर छुट्टी कर दिया गया.

निर्माण में हुई थी अनियमितता

स्कूल के सेवानिवृत शिक्षक मंगल सिंह पुरती द्वारा स्कूल भवन बनवाया गया था. प्राथमिक विद्यालय बांझीकुसुम प्रखंड मुख्यालय से पांच किलोमीटर दूरी पर है.भवन में प्लास्टर नहीं चढ़ा कर सी¨लग में सीधे रंग रोगन कर दिया गया. विभाग ने इस पर आपत्ति जताई थी और सेवानिवृत होने के बाद उसके पेंशन पर रोक लगाया गया था. जिसके बाद जेई व शिक्षिका ने मिलकर सी¨लग में बिना पी¨चग किए ही प्लास्टर करा दिया. जिसका परिणाम हादसे के रूप में सबके सामने है.