-आईजी ऑफिस से चंद कदम की दूरी पर पेड़ से टकरायी थी कार

-न तो मालिक का पता और न ही कार के नंबर का

BAREILLY: किसी भी लावारिस गाड़ी के डिटेल के बारे में पता लगाना पुलिस के लिए बड़ा टास्क नहीं माना जाता है, लेकिन ऐसे मामलों में भी पुलिस की लापरवाही सामने आई है. आईजी ऑफिस से गांधी उद्यान की ओर जाने वाली रोड पर जजेज कॉलोनी के पास पेड़ से टकराकर जली कार के मामले में पुलिस की हीलाहवाली देखने को मिली है. घटना को दो माह हो जाने के बाद भी पुलिस ने कार की डिटेल पता लगाना तो दूर उसे मौके से हटवाना भी मुनासिब नहीं समझा.

इस बारे में बरेली रेंज के आईजी डीके ठाकुर का कहना है कि एक्सीडेंट में जली कार के बारे में कोई कार्रवाई ना करना घोर लापरवाही है. इस संबंध में थाना पुलिस को कार हटाकर तुंरत कार्रवाई के निर्देश दे दिए हैं.

इन सवालों का नहीं मिला कोई जवाब

- कार में कौन और कितने लोग सवार थे? उनका क्या हुआ?.

- हादसा हुआ था तो दो माह बाद भी मालिक कार लेने क्यों नहीं आया?

- हादसे के बाद कार मालिक या ड्राइवर ने पुलिस से संपर्क क्यों नहीं किया?

- क्या कार चोरी की थी? इस बारे में पुलिस ने पता क्यों नहीं लगाया ?

- क्या कार में पशु तस्कर तो नहीं थे थे, जो पशु चुराने जा रहे थे?

- पुलिस ने अब तक गाड़ी को मौके से क्यों नहीं हटवाया?

- चेचिस नंबर और इंजन नंबर से ओनर का पता क्यों नहीं किया गया? पुलिस का कहना था कि गाड़ी जलने के कारण ये नंबर स्पष्ट नहीं दिख रहे थे.