रिजल्ट में गड़बडि़यां बढ़ने पर सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी सस्पेंड

जली हुई कापियां लगी अभ्यर्थियों के हाथ, पूरा रिजल्ट निरस्त करने की मांग

allahabad@inext.co.in

परिषदीय विद्यालयों में शिक्षक भर्ती कराने की जिम्मेदारी उठाने वाला परीक्षा नियामक कार्यालय में उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग जैसी हरकत कर डाली है. शनिवार की सुबह दो हजार रुपये जमा करके शिक्षक भर्ती परीक्षा की कापियां देखने के लिए अभ्यर्थी एलनगंज स्थित कार्यालय पहुंचे तो कागजों के ढेर में लगी आग ने उनके कान खड़े कर दिये. कापियां जला दिये जाने की आशंका में उन्होंने आग बुझाने का प्रयास किया. चंद जले हुए टुकड़े उनके हाथ आ गए. अभ्यर्थियों का दावा है कि यह उनकी कापियां हैं. उधर, लगातार विवादों से घिरती जा रही शिक्षक भर्ती प्रकरण में सख्त रुख अख्तियार करते हुए सरकार ने शनिवार को सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी सुत्ता सिंह को सस्पेंड कर दिया. सचिव बेसिक शिक्षा परिषद संजय सिनहा को भी हटा दिया गया है.

हाई कोर्ट ने दिया है डायरेक्शन

शिक्षक भर्ती की परीक्षा का परिणाम आने के बाद ही विवाद जारी है. सवा लाख अभ्यर्थियों ने शिक्षक भर्ती परीक्षा दी थी जबकि पास हुए थे सिर्फ 41हजार. विभागीय स्तर पर कुल 65 हजार से अधिक पद भरे जाने थे. इस पर नीति नियंताओं ने शिक्षकों की योग्यता पर भी सवाल उठाने शुरू कर दिये थे. लेकिन, जब कापियों को अभ्यर्थियों को दिखाया जाना शुरू हुआ तो कहानी पलट गयी. पता चला कि तमाम ऐसे अभ्यर्थी हैं जो कटऑफ से ज्यादा अंक पाने के बाद भी फेल घोषित कर दिये गये हैं. इसके बाद मामला हाई कोर्ट चला गया तो कोर्ट ने डायरेक्शन जारी करके अभ्यर्थियों को कापी दिखाने का निर्देश दिया.

गहराई से जांच हुई तो कई फसेंगे

अभ्यर्थियों को स्कैन कापियां मिलने के बाद शुरू हुआ गड़बडि़यां सामने आने का सिलसिला अब भी जारी है. शनिवार को भी दर्जन भर कापियों के नंबर में हेरफेर सामने आया. इसके बाद अभ्यर्थियों ने इसकी उच्च स्तरीय जांच की मांग शुरू कर दी है. उनका कहना है कि नंबर जोड़ने में भूल नहीं हुई है, ऐसा जानबूझकर किया गया है. इसमें ऊपर से लेकर नीचे तक मिली भगत हो सकती है. गंभीरता से जांच होने पर टीईटी 2011 जैसा खेल पकड़ में आ सकता है.

फैक्ट फाइल

1.25

लाख अभ्यर्थियों ने किया था शिक्षक भर्ती परीक्षा के लिए आवेदन

41556

अभ्यर्थियों को ही मिली थी सफलता

2000

रुपये अभ्यर्थी को जमा करने हैं स्कैन कॉपी प्राप्त करने के लिए

2500

अभ्यर्थियों ने शुल्क जमा करके कापियां देखने की इच्छा जताई है

40796

अभ्यर्थियों ने ऑनलाइन फिल की जिला वरीयता

34660

अभ्यर्थी पहली सूची में चयनित किये गये

6127

अभ्यर्थी दूसरी सूची में चयनित किये गये

09

अभ्यर्थियों को अचयनित घोषित किया गया