क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ :डीजल की कीमतों में उछाल के साथ ही बसों के किराये में भी बढ़ोतरी की आशंकाएं जन्म लेने लगी हैं. हजारीबाग बस एसोसिएशन की ओर से किराए में वृद्धि के फैसले के बाद रांची से चलने वाली बसों के किराए में भी वृद्धि की जा सकती है. हालांकि झारखंड बस ऑनर्स एसोसिएशन ने करीब दो महीने पहले ही परिवहन विभाग को पत्र लिख कर किराया बढ़ाने की मांग की थी लेकिन उस पर अब तक कोई भी निर्णय नहीं हो सका है. बता दें कि हजारीबाग बस ऑनर्स एसोसिएशन ने रविवार को बसों के किराये में वृद्धि करते हुए एसी बसों में 70 पैसे प्रति किलोमीटर और नॉन एसी बसों में 30 पैसे प्रति किलोमीटर बढ़ाने का फैसला लिया है.

दो माह पहले दिया था पत्र

झारखंड बस ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सच्चिदानंद सिंह ने बताया कि बसों में किराया वृद्धि को लेकर दो महीने पहले ही परिवहन विभाग को एसोसिएशन की ओर से पत्र लिखा जा चुका है. उन्होंने कहा कि सरकार भी बस ऑनर्स की मजबूरियों से वाकिफ है, और किराये में वृद्धि को जरूरी मानती है. उन्होंने बताया कि हजारीबाग बस ऑनर्स एसोसिएशन भी झारखंड बस ऑनर्स एसोसिएशन का अंग है और एसोसिएशन ने जो किराया बढ़ाया है वह 2014 में सरकार के साथ हुई बैठक के अनुरूप बढ़ाया है और बढ़ाया गया किराया हर तरह से उचित और पारदर्शी है.

मंत्री ने किया था विरोध

बीते दो महीने पहले जब झारखंड बस ऑनर्स एसोसिएशन ने बसों के किराये में वृद्धि की मांग सरकार से की थी तो उस वक्त नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने किराया वृद्धि को लेकर आपत्ति जताई थी. इसके बाद एसोसिएशन ने विभागीय स्तर पर वार्ता की बात कही थी. लेकिन अब तक इस मुद्दे पर विभाग से बात नहीं हो पाई है. बस ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सच्चिदानंद सिंह ने कहा कि डीजल की कीमतों में अप्रत्याशित उछाल के बाद बसों का खर्च भी बढ़ रहा है.