ranchi@inext.co.in
RANCHI : रांची पुलिस ने 5 अक्टूबर को हुई अपर बाजार के चावल व्यवसायी नरेन्द्र सिंह होरा की हत्या का खुलासा कर लिया है. लूट के इरादे से हुई थी व्यवसायी की हत्या. पुलिस ने मामले में कुल 9 चार्जशीटेड अपराधियों को गिरफ्तार किया है. छानबीन के क्रम में पुलिस ने इनके पास से भारी मात्रा में हथियार भी बरामद किया है. शुक्रवार की शाम एसएसपी अनीश कुमार गुप्ता, सिटी एसपी अमन कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस कर हत्याकांड का खुलासा किया.

रेकी कर कांड को दिया अंजाम
पकड़े गए अपराधियों ने अपने स्वीकारोक्ति बयान में कहा है कि इन लोगों का एक गिरोह चलता है, जो अपर बाजार, पंडरा इत्यादि से रात में लौटने वाले व्यवसायियों की रेकी करता है. ये जिस व्यवसायी को निशाना बनाना चाहते हैं, उसके रूट. कब निकलता है. कितना माल लेकर निकल रहा है. इसकी रेकी कर पता लगा लेते हैं. नरेन्द्र सिंह होरा हत्याकांड में इनलोगों ने अपर बाजार से ही दो लोगों को हायर किया था और सूचना देने के एवज में उन्हें पैसे भी दिए गए थे. 5 अक्टूबर की रात जैसे ही नरेन्द्र सिंह होरा अपनी स्कूटी से घर जाने के लिए निकले इन लोगों ने उनका पीछा करना शुरू कर दिया. हर पड़ाव पर अपराधियों ने एक-दूसरे से बात शेयर की. अन्त में रोस्पा टावर के समीप उन्हें रोका गया और लूटपाट करने लगे. नरेन्द्र होरा जब लूटपाट का विरोध करने लगे तो उन्हें नजदीक से सटाकर गोली मार दी गई और उनकी स्कूटी लेकर भाग गए. बाद में नरेन्द होरा की राज अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई थी.

गिरफ्तार अपराधी
मामले में बेलदार मोहल्ला डोरंडा का बबन खान, मनईटोला नीम चौक का छोटू हुसैन, डोरंडा हाथीखाना का मेहंदी हसन, दर्जी मोहल्ला का राशिद अंसारी, पोखरटोली डोरंडा का मो. आसिफ आलम उर्फ टप्पू, रिसालदार नगर का सज्जाद आलम, पोखरटोली का ही राजा आदिल, बड़ा घाघरा का बिरसा कच्छप व शिव रजक गिरफ्तार किए गए हैं.

क्या-क्या हुए बरामद
पुलिस ने इन अपराधियों के पास से 9 एमएम बोर के दो पिस्टल, 7.65 के दो पिस्टल, 9 एमएम के 5 जिन्दा कारतूस, 3.15 बोर के दो जिन्दा कारतूस, 7.65 एमएम के चार जिन्दा कारतूस, एसएलआर का एक जिन्दा कारतूस, लूट में शामिल पल्सर बाइक, स्कूटी, नकद 19 हजार रुपए व आठ मोबाइल फोन बरामद हुए हैं.

ये है पुलिस की टीम
हत्याकांड का खुलासा करने वाली पुलिस टीम में डीएसपी प्राण रंजन, एसटीएफ डीएसपी भोला प्रसाद सिंह, कोतवाली डीएसपी अजित कुमार विमल, लोअर बाजार इंस्पेक्टर सुमन कुमार सिन्हा, डोरंडा इंस्पेक्टर रमेश कुमार सिंह, अरगोड़ा इंस्पेक्टर रतिभान सिंह शामिल थे.