क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: पुलिस ने शहर के चर्चित व्यवसायी नरेंद्र सिंह होरा हत्याकांड की गुत्थी सुलझा ली है. दूसरे दिन शनिवार को पूछताछ में इन अपराधियों ने खुलासा किया कि एक चावल कारोबारी नरेंद्र सिंह को लूटने के लिए 12 लोगों की टीम बनाई थी. इस गिरोह द्वारा रांची शहर के नामी-गिरामी व्यवसायियों को लूटने की योजना थी, जिसकी रेकी पहले ही की जा चुकी थी. शनिवार को सभी आरोपियों को जेल भेज दिया गया है.

20 लाख की सूचना पर मारी थी गोली

नरेंद्र सिंह होरा को लूटने का प्लान एक दर्जन अपराधियों ने मिलकर तैयार किया था. अपराधी जानते थे कि नरेंद्र सिंह होरा अपनी स्कूटी में मोटी रकम रख कर घर लाते हैं. इसी सूचना पर अपराधियों ने उन्हें घर लौटने के क्रम में लूटने का प्लान बनाया. इसके लिए उनकी दुकान से लेकर पूरे रास्ते तक रेकी की गई. इस पूरे घटना का मास्टरमाइंड रांची के डोरंडा इलाके का रहने वाला छोटू हुसैन है. उसी ने अपने गिरोह के 11 सदस्यों के साथ मिलकर इस साजिश को रचा था. दरअसल, इस गिरोह को सूचना मिली थी कि पांच सितंबर की रात नरेंद्र सिंह होरा लगभग 20 लाख रुपए लेकर घर लौट रहे हैं.

लूटपाट का विरोध किया तो मर्डर

साजिश को अंजाम देने के लिए पांच सितंबर को दिनभर नरेंद्र सिंह होरा की रेकी की गई. इसके लिए उनके दुकान से लेकर मेन रोड आने तक लगातार सभी क्रिमिनल्स उन पर नजर रखे हुए थे. जैसे ही नरेंद्र सिंह होरा मेन रोड स्थित राज हॉस्पिटल के सामने पहुंचे. छोटू हुसैन ने अपने दो साथियों के साथ उन्हें ओवरटेक कर रोक लिया और हथियार के बल पर पैसे मांगने लगा. इसी दौरान नरेंद्र सिंह होरा ने छोटू हुसैन को धक्का दे दिया, जिस वजह से उसका पिस्टल जमीन पर गिर गया. जब अपराधियों को लगा कि वो पकड़े जाएंगे क्योंकि वहां काफी लोगों की भीड़ थी. इस वजह से छोटू हुसैन के दूसरे दो साथियों ने लगातार तीन फायरिंग कर नरेंद्र सिंह होरा की हत्या कर दी थी.

पैसे के बंटवारे में पकड़े गए

12 अपराधियों को यह पता था कि नरेंद्र सिंह होरा के पास से 20 लाख लूटे गए हैं, लेकिन रकम मात्र 5 लाख ही थी. इसी को लेकर सभी अपराधियों में आपस में ही विवाद हो गया. विवाद की खबर धीरे-धीरे रांची पुलिस के गुप्तचरों को भी मिली. इसके बाद एक-एक करके सभी 9 अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया.

शुक्रवार को भी लूट प्लान था

रांची एसएसपी अनीश गुप्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया कि सभी पेशेवर अपराधी हैं. नरेंद्र सिंह की हत्या के बाद भी ये चैन से नहीं बैठे थे और शुक्रवार को भी एक बड़े व्यापारी से 65 लख रुपए लूटने वाले थे. लेकिन इससे पहले ही पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर लिया. रांची एसएसपी के अनुसार बाकी फरार अपराधियों की गिरफ्तारी भी जल्द की जाएगी.