-काउंटिंग के लिए मंगाए जा रहे माध्यमिक स्कूलों से कैल्कुलेटर

-स्कूलों के पास कैल्कुलेटर न होने से नया खरीद कर पहुंचा रहे

बरेली :

लोकसभा चुनाव का 23 मई को रिजल्ट जारी होना है। इसको लेकर जिला प्रशासन तैयारियों में जुटा हुआ है। चुनाव में भारी-भरकम रकम खर्च करने वाला प्रशासन वोटों की काउंटिंग के लिए कैल्कुलेटर की खरीद नहीं कर सका है। ऐसे में प्रशासन ने अब माध्यमिक स्कूलों से कैल्कुलेटर मांगा है। वहीं अफसर इस संबंध में कुछ भी बोलने से बचते नजर आए।

100 कैल्कुलेटर की डिमांड

प्रशासन ने मतगणना के लिए सौ कैल्कुलेटरों की डिमांड माध्यमिक शिक्षा विभाग से की है। इसके बाद डीआइओएस ने सभी माध्यमिक विद्यालयों को कैल्कुलेटर भेजने के आदेश दिए हैं। आदेश मिलने के बाद से विद्यालय के कर्मचारी देर शाम तक कैल्कुलेटर पहुंचाने के लिए डीआइओएस कार्यालय पहुंचते रहे। वहीं विभागीय कर्मचारी संबंधित विद्यालय का नाम लिखकर इन कैल्कुलेटर को संग्रहित करते रहे। उन्होंने बताया कि वापस करने के लिए मौके पर ही नाम लिखा जा रहा है, ताकि किसी को कैल्कुलेटर इधर-उधर न जा सके।

खरीदकर डिमांड पूरी की

विद्यालय से नहीं ला पाने की स्थिति में कई कर्मचारियों ने बाजार से खरीद कर कैल्कुलेटर की डिमांड पूरी की। इनकी पैकिंग खोलकर राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के कक्ष में पुराने कैल्कुलेटर के साथ रखा गया। ऐसे में कक्ष में जगह-जगह कैल्कुलेटरों के खाली डिब्बे व पैकिंग नजर आई.

टीचर्स भी हुए परेशान

लोकसभा की मतगणना के लिए कैल्कुलेटर की जब कमी पड़ी तो अफसरों ने माध्यमिक स्कूलों से कैल्कुलेटर मंगवाने के लिए आदेश दिया। आदेश मिलते ही दोपहर धूप में ही टीचर्स ने कैल्कुलेटर पहुंचाने शुरू कर दिए। हालांकि इस दौरान टीचर्स को भी काफी मशक्कत करनी पड़ी, लेकिन आदेश के चलते वह इसे नकार नहीं सके।