-बीएड में मेन काउंसिलिंग में सीट एलॉटेड न होने वाले कैंडिडेट्स को पूल काउंसिलिंग में मिलेगा मौका

-च्वॉयस फिलिंग के लिए देना होगा कम से कम 10 ऑप्शन

GORAKHPUR: ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जाम बीएड काउंसिलिंग की तैयारियों का दौर तेज हो चला है. कैंडिडेट्स जहां अपने सभी डॉक्युमेंट्स जुटाकर काउंसिलिंग की तैयारी कंप्लीट कर चुके हैं, वहीं कुछ रिजल्ट के इंतजाम में नजरे जमाए बैठे हैं. बीएड करने की चाह रखने वाले कैंडिडेट्स को काउंसिलिंग में अगर मनचाही सीट नहीं मिल पा रही है तो उन्हें पूल काउंसिलिंग राहत दे सकती है. इसमें शामिल होने वाले कैंडिडेट्स को काउंसिलिंग फीस के साथ कॉलेज की कंप्लीट फीस भी अदा करनी होगी. यानि उन्हें 750 काउंसिलिंग फीस के साथ 51250 रुपए अदा करना होगा. ऐसा न करने वाले कैंडिडेट्स पूल काउंसिलिंग में हिस्सा नहीं ले सकेंगे.

सिर्फ ऑनलाइन ही जमा होगी फीस

काउंसिलिंग के लिए जमा होने वाली काउंसिलिंग फीस भी कैंडिडेट्स को ऑनलाइन मोड में ही जमा करनी होगी. मेन काउंसिलिंग में शामिल होने वाले कैंडिडेट्स को 750 रुपए काउंसिलिंग फीस और 5000 रुपए एडवांस कॉलेज फीस जमा करनी है, जबकि पूल काउंसिलिंग में काउंसिलिंग फीस के साथ ही 51250 अदा करना है. सभी फीस नेट बैंकिंग या डेबिट कार्ड के जरिए ही जमा करनी होगी. मेन काउंसिलिंग वाले कैंडिडेट्स को सीट एलॉटमेंट के बाद बकाया फीस भी ऑनलाइन मोड में ही जमा करनी है. इसके लिए फीस जमा करने के लिए भी कोई व्यवस्था नहीं है.

भरने होंगे कम से कम 10 ऑप्शन

काउंसिलिंग में शामिल होने वाले कैंडिडेट्स को च्वॉयस लॉक के दौरान खास ध्यान देना है. उन्हें कम से कम 10 कॉलेजेज लॉक करने हैं, जिससे कि एक कॉलेज न अलॉट होने की कंडीशन में उन्हें दूसरा कॉलेज अलॉट किया जा सके. कैंडिडेट्स 10 से ज्यादा कॉलेज भी लॉक कर सकते हैं. ऐसा इसलिए है कि कैंडिडेट्स अगर एक बार कई कॉलेज लॉक कर देगा, तो उन्हें एक बार ही काउंसिलिंग फीस अदा करनी होगी. वरना उन्हें पूल काउंसिलिंग में शामिल होने के लिए दोबारा काउंसिलिंग फीस अदा करनी होगी.

बॉक्स -

ऑनलाइन मोड में होगी काउंसिलिंग

लखनऊ यूनिवर्सिटी ने बीएड सेशन 2018-2020 के लिए ऑनलाइन ऑफ कैंपस काउंसिलिंग की व्यवस्था की है. इसके तहत कैंडिडेट्स को अब काउंसिलिंग सेंटर्स पर जाना ही नहीं पड़ेगा. उन्हें ऑनलाइन कॉलेज सेलेक्शन के लिए च्वॉयस लॉक का मौका मिलेगा, वहीं डॉक्यूमेंट्स वेरिफिकेशन भी ऑनलाइन मोड में होगा. कैंडिडेट्स ने फॉर्म भरने के दौरान जो डॉक्युमेंट्स अपलोड किए हैं, जिम्मेदार उसी के बेसिस पर डॉक्युमेंट्स वेरिफाई करने के बाद कैंडिडेट्स को च्वॉयस लॉक के लिए यूजर नेम और पासवडर्1 देंगे.

पूल काउंसिलिंग में कौन-कौन हो सकता है शामिल

- वो कैंडिडेट्स जो मेन काउंसिलिंग में शामिल नहीं हुए हैं.

- कैंडिडेट्स जिन्हें कोई कॉलेज अलॉट न हुआ हो.

- कैंडिडेट्स जिन्हें रिजेक्ट कर दिया गया हो.

- कैंडिडेट्स जो कॉलेज अलॉट होने के बाद भी फीस नहीं जमा कर सके हों.

इन सेल्फ अटेस्टेड डॉक्युमेंट्स की होगी जरूरत

- कंफर्मेशन लेटर का प्रिंट आउट

- अप्लीकेशन फॉर्म की कॉपी, एडमिट कार्ड और जेईई बीएड का स्कोर कार्ड

- डेट ऑफ बर्थ के प्रूफ के तौर पर हाईस्कूल सर्टिफिकेट

- क्वालिफाइंग एग्जाम की सभी मार्कशीट और सर्टिफिकेट

- कैटेगरी, सब कैटेगरी और वेटेज सर्टिफिकेट

- गवर्नमेंट की ओर से इशु ओरिजनल आईडी

- दो पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

- फीस रेसिप्ट की कॉपी