पीड़ितों को जान से मारने की धमकी दी गई
डेरा भक्तों को सामूहिक रूप से नपुंसक बनाने के मामले सीबीआई को सफलता मिल गयी. हालांकि पिछली बार डेरा के दबाव में पीड़ितों ने सीबीआई की जांच में सहयोग नहीं किया था. इस मामले में प्रमुख गवाह और डेरा सच्चा सौदा के पूर्व समर्थक हंस राज चौहान को पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में भी पेश किया जा चुका है. हंस राज चौहान ने सीबीआई के सामने एक बार फिर अपना बयान दर्ज कराया है, लेकिन उन्होंने इस बारे में कोई भी बात करने से साफ इनकार कर दिया. हंस राज ने कहा कि उन्‍हें जो कहना था सीबीआई के सामने बोल दिया है. अब वे इस पर कोई चर्चा नहीं करना चाहते हैं. वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक डेरा के ज्यादातर पीड़ितों को जान से मारने की धमकी दी गई है, इसलिए वे अपना मुंह नहीं खोल रहे हैं. सीबीआई ने उस अस्‍पताल में छानबीन की है जहां पर इस घटना को अजांम दिया गया है.

सीबीआई ने कुछ लोगों को तैयार कर लिया
हालांकि सीबीआई को इसके लिए काफी मशक्‍कत करनी पड़ी. सीबीआई के गुप्तचरों ने कुछ पूर्व डेरा भक्तों से मुलाकात की है. इस दौरान कुछ संभावनाएं दिखी. उन्होंने कुछ ऐसे लोगों को भी ढूंढ़ निकाला जिनको डेरा में भगवान के नाम पर नपुंसक बनाया गया था.  ऐसे में सीबीआई ने कुछ लोगों को तैयार कर लिया है जो ने ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट के सामने अपने बयान दर्ज करान के लिए भी तैयार हैं. इसके अलावा इन लोगों की वीडियोग्राफी भी करायी गयी ताकि अदालत में ये लोग मुकर न पाएं. सीबीआई इन लोगों को लेकर दिल्लीआने की तैयारी में है, क्योंकि इस मामले में केस दिल्ली में ही दर्ज हुआ है. गौरतलब है कि हंस राज ने अपनी याचिका में गुरमीत राम रहीम पर आरोप लगाया था कि डेरा में लोगों को नपुसंक बनाया जाता है. इस दौरान यह कहकर बहलाया-फुसलाया जाता है कि उनकी मुलाकात सीधे भगवान से होगी. उन्‍होंने यह भी कहा है कि उन्हें और 400 अन्य भक्तों को बाबा ने नपुंसक बनवा दिया है.

Hindi News from India News Desk

National News inextlive from India News Desk