सेंसर बोर्ड का उड़ाया मजाक
जब लीला सैमसन से पूछा गया कि क्या उन्हें पता है कि मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक FCAT ने फिल्म 'MSG' को हरी झंडी दे दी है? इस पर लीला ने कहा कि उन्होंने भी ऐसा सुना है. लेकिन अभी तक लिखित में कुछ भी नहीं है. हालांकि उन्‍होंने यह भी कहा कि, ये एक तरह से फिल्म सेंसर बोर्ड के सर्टीफिकेट का मजाक उड़ाना है. उन्होंने कहा कि उनका इस्तीफा देने का फैसला अंतिम है. उन्होंने इस बारे में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के सचिव को जानकारी दे दी है. इस बीच, फिल्म MSG को FCAT से मंजूरी मिलने के फैसले पर कोई आधिकारिक जानकारी नहीं है. सेंसर बोर्ड ने राम रहीम अभिनीत 'MSG' को मंजूरी के लिए FCAT को रेफर किया था. आपको बताते चलें कि यह फिल्म 16 जनवरी को रिलीज होनी है.

आखिर क्‍या है वजह  
लीला सैमसन का यह इस्तीफा कई सवाल भी खड़े कर रहा है. खबरों की मानें तो सैमसन ने फिल्म की रिलीज की वजह से इस्‍तीफा नहीं दिया है, बल्कि मंत्रालय की ओर से नियुक्त अधिकारियों और पैनल के सदस्यों के भ्रष्टाचार, दखलअंदाजी और मनमाने रवैये के कारण वो इस्तीफा दे रही हैं. सैमसन ने कहा कि धन आवंटित न होने के कारण सेंसर बोर्ड के सदस्यों की बैठक पिछले नौ महीनों से नहीं हुई है. अब ऐसे में संस्थान को चलाना आसान नहीं है.

डेरा प्रवक्‍ता ने दी जानकारी
इस बीच सिरसा स्थित डेरा सच्‍चा सौदा के एक प्रवक्‍ता ने कहा, 'हमारी सूचना के अनुसार FCAT ने फिल्‍म को मंजूरी दे दी है, लेकिन लिखित आदेश का इंतजार है.' इसके अलावा प्रवक्‍ता ने कहा, कि फिल्‍म मादक पदार्थ के खिलाफ है और उसमें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है. हालां‍कि दूसरी ओर गृह मंत्रालय इसे लेकर चिंतित है कि फिल्‍म के रिलीज होने से कुछ समुदायों द्वारा विरोध हो सकता है. इस संबंध में मंत्रालय ने राज्‍यों को परामर्श भी जारी किया है. इसके अलावा पंजाब के मोगा जिले में फिल्‍म 'MSG' के पोस्‍टर फाड़े जाने के बाद तनाव हो गया.

Hindi News from India News Desk

National News inextlive from India News Desk