थल सेनाध्यक्ष व सेना अधिकारियों के साथ हुई हाई लेवल की मीटिंग

रक्षामंत्री निर्मला सीता रमण सेना के कार्यक्रम में हुई शामिल

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: कुंभ मेला 2019 को लेकर चल रही तैयारियों के बीच भारत की केंद्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण बुधवार सुबह संगमनगरी पहुंची. बमरौली एयरपोर्ट पर सेना के अधिकारियों ने रक्षा मंत्री का स्वागत किया. करियप्पा मार्ग स्थित सेना के गेस्ट हाउस में कुछ देर रूकने के बाद रक्षा मंत्री संगम किनारे स्थित सेना के आयुध भंडार 'अकबर किला' पहुंची. वहां सेना अधिकारियों के साथ कुंभ मेला की सुरक्षा व्यवस्था व अन्य मुद्दों पर हाई लेवल की मीटिंग की. रक्षा मंत्री के साथ थल सेनाध्यक्ष विपिन रावत भी मौजूद रहे.

सुरक्षा के रहे कड़े इंतजाम

रक्षा मंत्री के आगमन को लेकर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे. जिन रास्तों से रक्षा मंत्री का फ्लीट गुजरना था, वहां पहले से ही रास्ता ब्लॉक करने का इंतजाम था. बमरौली एयरपोर्ट से संगम तट तक पुलिस के जवान जगह-जगह तैनात किए गए थे. बमरौली एयरपोर्ट पर विशेष विमान से उतरने के बाद रक्षा मंत्री अकबर के किला में स्थित सेना के आर्डिनेंस फैक्ट्री में पहुंचीं. वहां सेना के अधिकारियों को छोड़ कर किसी को भी जाने की परमिशन नहीं थी. किला में अधिकारियों के साथ मीटिंग करने के बाद रक्षा मंत्री दोपहर करीब डेढ़ बजे वापस दिल्ली लौट गई.

जानकारी और फोटो किया ट्वीट

इलाहाबाद दौरे के दौरान रक्षा मंत्री ने अधिकारियों से क्या बातचीत की, किसी को कोई जानकारी नहीं थी. दिल्ली पहुंचने के बाद उन्होंने दोपहर करीब 3.23 बजे ट्विटर पर इलाहाबाद भ्रमण से संबंधित फोटो के साथ जानकारी साझा की. इसमें उन्होंने लिखा कि आगामी कुंभ मेला के मद्देनजर मेला के लिए सुरक्षा और प्रशासनिक तैयारी की योजना बनाने के लिए जनरल बिपिन रावत के साथ उन्होंने इलाहाबाद में आर्डिनेंस डिपो किला का दौरा किया.

क्या लिया फैसला पता नहीं

पिछले कई सालों से अकबर का किला भारतीय सेना के पास है. सेना का बड़ा आयुध भंडार केंद्र होने के कारण किला में किसी भी बाहरी व्यक्ति का जाना पूरी तरह से प्रतिबंधित है. वहीं स्थानीय लोगों की मांग है कि इसे पर्यटकों व आम जनता के लिए खोला जाए. साथ ही प्राचीन अक्षय वट के दर्शन का भी इंतजाम किया जाए. इसे लेकर रक्षा मंत्री ने अधिकारियों से क्या चर्चा की, क्या निर्णय लिया, इसकी जानकारी नहीं हो सकी है.