CHAIBASA: कोल्हान मंडल के मुख्यालय चाईबासा मंडल कारागार को ब्रेककर नक्सलियों को छुड़ाने की योजना पर सोमवार को पुलिस ने पानी फेर दिया. पुलिस ने जेल की सुरक्षा में सेंध लगाने वाले तीन सुरक्षा कर्मियों और जेल ब्रेक के मास्टर माइंड रामा पांडेय को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. पुलिस अक्षीक्षक क्रांति कुमार ने प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि गुवा के मजदूर नेता रमा पांडेय ने अपने नक्सली साथी संदीप और अन्य नक्सलियों को जेल से बाहर निकालने के लिए जेल ब्रेक करने की योजना बनाई थी. आरोपी ने जेल की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मी विजय खालको, चामू मुंडा और जुएल होरो को 10 लाख रुपये देने की डील हुई थी. आरोपी ने तीनों कर्मियों को 4 लाख दे दिए थे. एसपी ने बताया कि तीनों कर्मी 2011 और 2014 में हुए जेल ब्रेक में ये शामिल थे.

एसएपी को लग गई थी भनक

जेल ब्रेक करने की योजना की भनक एसपी को लग चुकी थी जिसके बाद एसपी ने एएसपी मनीष रमन व चाईबासा सदर एसडीपीओ अमर कुमार पांडेय तथा कई पदाधिकारियों के नेतृत्व में एक जांच दल का गठन कर मामले की तफ्तीश में लगा दिया गया था. पुलिस मुख्य सुत्रधार तक सोमवार को पहुंची और गुवा निवासी रामा पांडेय को धर दबोचा.

इन नक्सलियों को छुड़ाने की थी योजना

1. संदीप दा उर्फ मोतीलाल सोरेन

2. जय मसीह चरद

3. रामेश्वर कुंकल

4. मार्केंडय सिंह कुंटिया

5. देव कुमार बिरुली

6. नाला भिक्षापति

7. राजेश टुडू उर्फ राजेश संथाली