नेता खेती-किसानी में है व्‍यस्‍त
छत्‍तीसगढ़ में रहने वाले नंद कुमार साय इन दिनों खेती-बाड़ी में व्‍यस्‍त हैं। पेशे से किसान नंद कुमार राष्‍ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्‍यक्ष हैं और बीजेपी से राज्‍यसभा सांसद भी रहे हैं। नंद कुमार वीआईपी कल्‍चर से हमेशा दूर रहते हैं। इस समय वह खेत जुताई में लगे हैं। इतने बड़े राजनेता होने के बावजूद नंद कुमार इस तपती गर्मी में खुद ही हल चला रहे हैं। उनकी यह तस्‍वीर सोशल मीडिया पर छाई हुई है। बनियान और लुंगी पहने सिर पर गमछा डाले नंद कुमार बैलों की मदद से खेत जुताई कर रहे हैं।

पहले विधायक भी रहे
गृह जिले जशपुर के भागोरा गांव में रहने वाले नंद कुमार खरीफ सीजन की खेती में जुटे हैं। वह खेतों की जुताई के साथ-साथ बीज भी रोप रहे हैं। छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ आदिवासी नेता और पूर्व सांसद साय को फरवरी महीने में राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग का अध्यक्ष बनाया गया था। साय 1977, 1985 तथा 1998 में मध्य प्रदेश विधानसभा के सदस्य रह चुके हैं। साल 2000 में वह छत्तीसगढ़ विधानसभा के सदस्य बने और पहले विपक्ष के नेता बने थे।

ये केंद्रीय मंत्री सचमुच अपने खेतों में चलाते हैं हल,बोते हैं बीज

पांच बार सांसद रह चुके
नंद कुमार साय 1989, 1996 और 2004 में लोकसभा सदस्य भी रह चुके हैं। इसके साथ ही 2009 और 2010 में वह राज्यसभा के लिए निर्वाचित हो चुके हैं। साय के बारे में कहा जाता है कि बचपन से कृषि से जुड़े होने के कारण उन्होंने आज तक कृषि को नहीं छोड़ा। राजनीति में आने के बावजूद भी खेती और किसानी से उनका जुड़ाव पहले की तरह ही बना हुआ है।

Interesting News inextlive from Interesting News Desk

Interesting News inextlive from Interesting News Desk