क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ :चैंबर चुनाव के लिए नामांकन के अंतिम दिन सोमवार को टीम आरडी सिंह के 13 कैंडिडेट्स ने पर्चा भरा. किशोर मंत्री ने नामांकन दाखिल करने के बाद कहा कि टीम आरडी पूरे सादगी के साथ चुनाव लड़ेगी. उन्होंने कहा कि केरल में बाढ़ आपदा आई हुई है इसलिए हमारा फर्ज बनता है कि पूरी सादगी के साथ चुनाव लड़ा जाए. टीम आरडी सिंह की ओर से पूजा ढाढा भी चुनाव लड़ने वाली थीं, लेकिन तबियत खराब होने की वजह से वह नामांकन पर्चा नहीं भर सकीं. आरडी सिंह ने कहा कि चुनाव चैंबर की एक लोकतांत्रिक प्रक्रिया है और इसका हम सबको पालन करना है. चुनाव के नतीजे जो भी हों लेकिन हम दोस्ताना संघर्ष को तैयार हैं.

टीम आरडी के कैंडिडेट्स

आरडी सिंह, किशोर मंत्री, प्रमोद चौधरी, अमरजीत गिरधर, दीपक लोहिया, आदित्य मल्होत्रा, कमल जैन, महेश कुमार साहू, प्रकाश हेतसरिया, श्रवण कुमार, सुरेश सिंह, दिवाकर भगत, राजकुमार मित्तल.

....

क्षेत्रीय उपाध्यक्ष के उम्मीदवार

-अमित माहेश्वरी, साउथ छोटानागपुर डिवीजन

-रमेश कुमार , साउथ छोटानागपुर डिवीजन

-बिकास चंद्रा, नॉर्थ छोटानागपुर डिवीजन

-प्रदीप जैन, कोयलांचल डिवीजन

-ललित शर्मा, कोल्हान डिवीजन

-रंजीत कुमार मिश्रा, पलामू डिवीजन

-सुरेन्द्र कुमार सिंघानिया, संथाल परगना डिवीजन

........

क्या बोले कैंडिडेट्स

चैंबर की गरिमा को बरकरार रखना हमारा उद्देश्य है. व्यवसायियों और उद्यमियों की समस्याओं पर गंभीरता से चैंबर विभिन्न मंचों पर अपनी आवाज दे, ऐसा प्रयास किया जाएगा. रोजगार परक उद्यमों की स्थापना, राज्य का समग्र विकास और चैंबर के उद्देश्यों को सफल बनाने के लिए पूरी टीम के साथ काम करेंगे. चूंकि चैंबर व्यवसायियों और उद्यमियों का एक मंच हैं जहां समस्याओं के निदान की दिशा में कदम उठाए जाते हैं और समय-समय पर सरकार की नीतियों को बनाने में भी अपनी भूमिका अदा करता है. निश्चित तौर पर हम जीत कर आते हैं तो कई बदलाव होंगे.

- श्रवण कुमार

चैंबर चुनाव एक लोकतांत्रिक प्रक्रिया के तहत होता है. चैंबर व्यवसाय जगत से जुड़े लोगों की एक ऐसी संस्था है जहां समस्याओं के निदान की दिशा में काम किया जाता है. निश्चित तौर पर चुनाव मतदाताओं के मिजाज पर डिपेंड करता है कि वो किसे चुनते हैं. लोकतांत्रिक व्यवस्था में वोटर्स और जनता ही जनार्दन होती है. हमें उम्मीद है कि हमारे प्रयासों से और हमारी टीम के नेतृत्व को वोटर्स गंभीरता से लेंगे और इसबार का चुनाव बदलाव के लिए है, वोटर्स किसी भी हाल में नई टीम को चुनेंगे. हमारे चुनावी एजेंडों में कई ऐसे एजेंडे हैं जो छोटे व्यवसायियों से जुड़े हुए हैं. होल्डिंग टैक्स, बिजली और सिंगल विंडो सिस्टम को कारगर बनाने का प्रयास करेंगे.

- दीपक लोहिया

राज्य में औद्योगिक विकास करना है तो नीतियों को समय के अनुसार बदलना ही होगा. राज्य में कृषि आधारित उद्योगों की स्थापना हो ताकि किसानों की आय में इजाफा हो सके. साथ ही माइंस आधारित उद्योगों को भी तरजीह मिलनी चाहिए. हालांकि सरकार ने कई अमेंडमेंट उद्योग नीति में किए हैं, जो स्वागतयोग्य हैं. लेकिन एमओयू को धरातल पर उतारने में अभी कई पड़ाव पार करने होंगे. चैंबर चुनाव में वोटर्स सर्वोपरि हैं और वे सब व्यवसाय या उद्योग जगत से आते हैं. ऐसे में हमें अगर वोटर्स का सपोर्ट मिलता है तो हम चैंबर को नई ऊंचाइयों पर ले जाने का प्रयास करेंगे.

- अमरजीत गिरधर