- इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन ने ओलंपिक एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड को आयोजन के लिए किया अधिकृत

- 26 व 27 फरवरी को प्रस्तावित है चैंपियनशिप, राज्य सरकार कॉर्निवाल का रूप देने के प्रयास में

DEHRADUN: औली में स्कीइंग चैंपियनशिप का इंतजार खत्म होता नजर आ रहा है. बताया गया है कि आगामी 26 व 27 फरवरी को औली में स्कीइंग एंड स्नो बोर्डिग चैंपियनशिप का आयोजन होगा. जिसमें देशभर की कई टीमें प्रतिभाग कर सकती हैं. लेकिन इस बार यह आयोजन इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन के दिशा-निर्देर्शो पर ओलंपिक एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के तत्वावधान में राज्य सरकार के सहयोग से आयोजित होगा. आयोजन को लेकर खिलाडि़यों में खुशी की लहर है.

आईओए की तरफ से पर्यटन सचिव काे आया पत्र

इस वर्ष राज्य के तमाम इलाकों में रिकॉर्डतोड़ बर्फबारी हुई है. औली में कई फुट तक बर्फ जमी हुई है. इसी क्रम में राज्य सरकार ने स्कीइंग चैंपियनशिप कराने के लिए विंटर गेम्स फैडरेशन ऑफ इंडिया से अप्रोच किया गया. लेकिन राज्य से लेकर केंद्र तक बॉडी भंग होने के कारण इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन ने अब इस आयोजन के लिए ओलंपिक एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड को अधिकृत किया है. आईओए की राज्य ईकाई प्रदेश सरकार के सहयोग से इस आयोजन को करेगी. इसके लिए इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन ने राज्य सरकार के पर्यटन सचिव को पत्र भेजा है. ओलंपिक एसोसिएशन ऑफ इंडिया के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर इरेना कौशे के हस्ताक्षरयुक्त पत्र 12 फरवरी को राज्य के पर्यटन सचिव का प्राप्त हुआ है. बताया गया है कि इस चैंपियनशिप में स्कीइंग एंड स्नो बोर्डिग चैंपियनशिप औली में आयोजित होगी. चैंपियनशिप तीन कैटेगरीज की होगी. जिसमें सीनियर, जूनियर व सब-जूनियर की चैंपियनशिप होगी. बताया गया है कि इसमें क्रॉस कंट्री, एल्पाइन, स्नो बोर्डिग आदि चैंपियनशिप शामिल हैं. पर्यटन विभाग के ज्वाइंट डायरेक्टर विवेक चौहान ने बताया कि राज्य सरकार की कोशिश है कि औली में होने वाले आयोजन को कॉर्निवाल का रूप दिया जाए. जिस पर फैसला लिया जाना बाकी है.

ओलंपिक एसोसिएशन राज्य में अपनी स्टेट बॉडी की तरफ से विंटर गेम्स का आयोजन कर रहा है. यह खुशी की बात है. खिलाड़ी लंबे समय से इसका इंतजार कर रहे थे. ऐसे आयोजन से खेल प्रतिभाओं को आगे बढ़ने का मौका मिल पाएगा.

- शिव पैन्यूली, अध्यक्ष आईस स्केटिंग एसोसिएशन ऑफ

उत्तराखंड.

हां, आगामी 26 व 27 फरवरी को औली में स्कीइंग व स्नो बोर्डिग चैंपियनशिप का आयोजन हो रहा है. जिसके लिए आईओए ने अपनी मंजूरी दे दी है. लेकिन टूरिज्म विभाग की कोशिश है कि इस आयोजन को कॉर्निवाल का नाम दिया जाए.

- विवेक चौहान, ज्वाइंट डायरेक्ट, उत्तराखंड टूरिज्म बोर्ड.