- हुकुलगंज में बने चर्मशोधन कारखाने को अन्यत्र शिफ्ट करने की मांग

- पार्षदों संग कई मोहल्ले के लोग सड़क पर उतरे

varanasi@inext.co.in

VARANASI

हुकुलगंज में बने चर्मशोधन कारखाने को कहीं और शिफ्ट करने की मांग को लेकर शुक्रवार को हुकुलगंज और नई बस्ती के पार्षदों के साथ पब्लिक भी सड़क पर उतर आई. पार्षदों ने कहा कि करीब तीन दशक से पब्लिक दिक्कत झेल रही है, लेकिन जनप्रतिनिधियों और अफसरों को इससे कोई सरोकार नहीं है. इस दौरान एसीएम (चतुर्थ) नीता यादव को ज्ञापन सौंपा गया. एसीएम ने नगर निगम के अफसरों से बात कर आश्वासन दिया कि एक हफ्ते में कारखाना हटाने के लिए टेंडर प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी.

हीलाहवाली का आरोप

घनी आबादी वाले हुकुलगंज वार्ड के पार्षद बृजेश श्रीवास्तव व नईबस्ती वार्ड के पार्षद जय सोनकर ने कहा कि करसड़ा में जमीन लीज पर लेने के बाद भी चर्मशोधन कारखाने को शिफ्ट करने में हीलाहवाली की जा रही है. कारखाने से उठने वाली दुर्गन्ध से पब्लिक का जीना मुहाल हो गया है. कारखाने की दुश्वारियां सिर्फ यहां तक ही सीमित नहीं है. हवा के साथ दुर्गन्ध कई मोहल्लों के लोगों को भी प्रभावित कर रही है. पार्षदों ने आरोप लगाया कि नगर निगम के अफसरों और ठेकेदारों की मिलीभगत से कारखाना शिफ्ट करने का टेंडर नहीं हो पा रहा है. धरने में नीरज सोनकर, हिमांशु श्रीवास्तव, डा.मो. इदरीश, मो. सलीम, सूरज पटेल, शैलेष कन्नौजिया, रितेश श्रीवास्तव, संतोष सेठ, बाबू भाई, उमेश विश्वकर्मा, कन्हैया अग्रहरि आदि थे.