मुंबई प्लेन क्रैश हादसे में रानीमंडी की रहने वाली मारिया जुबैरी की मौत
allahabad@inext.co.in
ALLAHABAD: मुंबई में चार्टड प्लेन क्रैश हादसे का शिकार हुई पायलट मारिया जुबैरी शहर के रानीमंडी एरिया की रहने वाली थी। गुरुवार दोपहर हादसे के बार मारिया के घर आई एक फोन काल से पूरे घर में मातम फैल गया। रोने पीटने की चीत्कार से पूरे मोहल्ले में हड़कंप मच गया। बूढ़ी मां फरीदा जुबैरी और पिता डा। इकबाल जुबैरी बेटी की मौत की खबर पर बिलख पड़े। देखते ही देखते पूरे रानीमंडी में मारिया के मौत की खबर फैल गई। जिसके बार हर तरफ मातम फैल गया। आस-पास के लोगों का मारिया के घर में आने का सिलसिला शुरू हो गया। देर रात मारिया के बूढ़े पैरेंट्स लखनऊ के लिए रवाना हो गए। जहां से वह प्लेन से शुक्रवार को मुंबई पहुंचेंगे।

तीन भाई बहनों में बड़ी थी मारिया
रानीमंडी में रहने वाले डॉ। इकबाल जुबैरी की तीन बच्चों में चालीस साल की मारिया जुबैर बड़ी बेटी हैं। छोटी बहन बाकुल शारजाह दुबई में प्रोफेसर हैं और भाई राहिल दुबई के सिटी बैंक में जॉब करता है। मारिया की शादी रायबरेली के आमिर रिजवी से हुई है। आमिर फिल्म प्रोडक्शन के कारोबार में हैं। मारिया की बेटी जैनब ने इसी साल हाईस्कूल की परीक्षा पास की है। मारिया की मां फरीदा ने बताया कि बुधवार को मारिया ने फोन पर बात की थी। वह यही जिद कर रही थी कि आप और पापा कब आओगे। हम लोग रविवार का मुंबई जाने का प्रोग्राम बना रहे थे। बूढ़े माता-पिता को यही मलाल है कि इस बार ईद भी मारिया के साथ नहीं मना सके। रमजान में मारिया रानीमंडी आई थी। तब मां के लिए खूब शार्पिग की थी।

डॉक्टर हैं मॉरिया के पिता
पिता इकबाल जुबैरी पेशे से डाक्टर हैं। गंगापार के मऊआइमा इलाके में वह 45 साल से क्लीनिक चला रहे हैं। इकबाल का कहना है कि अल्लाह का दिया सबकुछ है, क्लीनिक वेलफेयर के लिए ही चलाता हूं। इलाज के पैसे नहीं लेता। मां फरीदा ने बताया कि दोपहर ढाई बजे के करीब जैनब का फोन आया। वह फोन पर चीख रही थी। हम घबरा गए। फिर किसी और फोन लेकर हादसे की सूचना दी। इसके बाद तो मां बेहोश ही हो गई। रानीमंडी में चीखें गूंजी तो भीड़ जमा हो गई। रक्षा विशेषज्ञ कमर आगा परिवार के हैं। उनकी पत्‍‌नी किरन आगा ने पहुंच फरीदा को तसल्ली दी। रानीमंडी के पार्षद परवेज अख्तर, मुतवल्ली असगर अब्बास आदि पहुंच गए और परिवार को संभाला।

National News inextlive from India News Desk