- पुष्प विहार में दिया था नाले की मरम्मत का कार्य

- आरटीआई कार्यकर्ता ने नगर आयुक्त से की शिकायत

Meerut . नगर निगम ने बने हुए नाले पर मरम्मत करा दी. मरम्मत भी ऐसी कि एक माह में ही नाले का पानी सड़कों व लोगों के घरों तक पहुंचने लगा. या यूं कहें कि मरम्मत की ही नहीं गई. नगर निगम ने बिना निरीक्षण किए उसका पेमेंट भी कर दिया. हालात यह है कि नाले का पानी आने से लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

सात लाख में होनी थी मरम्मत

नगर निगम ने एक ठेकेदार को सात लाख चौंतीस हजार रुपये में पुष्प विहार में बने हुए नाले की मरम्मत का काम दिया था. जबकि नाले की दीवार पहले से ही बनी हुई थी और ठीक थी. खैर ठेकेदार ने नाले की दीवार की मरम्मत दिखाकर पूरा पेमेंट ले लिया.

एक माह भी नहीं चली मरम्मत

बीते साल सितंबर में नगर निगम ने नाले की दीवार की मरम्मत कराई थी. मरम्मत करने में घटिया सामान का प्रयोग किया गया. जिसका नतीजा यह हुआ कि वह मरम्मत एक माह भी नहीं चली और जगह से नाले की दीवार टूट गई. जिसके कारण पूरे पुष्प विहार में जलभराव की समस्या हो गई. हालात यह हो गई कि पुष्प विहार के मुख्य मार्ग पर लोगों का चलना तक मुश्किल हो गया है.

आरटीआई में खुलासा

पुष्प विहार के संबंध में एक व्यक्ति ने नगर निगम से आरटीआई से जानकारी मांगी थी. जिसमें निगम ने बताया कि सात लाख चौंतीस हजार रुपये में इसकी मरम्मत कराई गई है. अब आरटीआई कार्यकर्ता ने नगर आयुक्त ने इसकी शिकायत की है.

वर्जन

मामला संज्ञान में आया है. मामले की जांच कराई जाएगी. जांच में जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई जरूर की जाएगी.

-मनोज कुमार चौहान

नगर आयुक्त