- यूपी बोर्ड मूल्यांकन में शहर के केंद्रों पर 10,41,374 कॉपियों में से 4,70,217 हो चुकीं चेक

- 13 मई तक और 5,71,157 कॉपियों का होना है मूल्यांकन

- तेजी से हो रहा कार्य, हर परीक्षक डेली जांच रहा 50 कॉपियां

GORAKHPUR: यूपी बोर्ड मूल्यांकन में लगे परीक्षकों को बोर्ड के एक निर्देश ने थिएटर्स में छाए बाहुबली से भी तेज बना दिया है. 13 मई तक हर हाल में मूल्यांकन पूरा करने के निर्देश के बाद परीक्षक लगातार तेजी से कॉपियां जांच रहे हैं. गोरखपुर जनपद में बनाए गए छह मूल्यांकन केंद्रों पर कुल 10,41,374 कॉपियों में से 4,70,217 का मूल्यांकन पूरा हो चुका है. यानी अगले सात दिनों में परीक्षकों को कुल 5,71,157 कॉपियां जांचनी होंगी. इसे देखते हुए एक दिन में अमूमन 30 से 35 कॉपियां जांचने वाले परीक्षक पर डे 50 कॉपियों की अपनी तय लिमिट में एक भी गिनती कम नहीं होने दे रहे.

लिमिट में ही पूरा करना है कार्य

यूपी बोर्ड मूल्यांकन के लिए जिले में कुल छह केंद्र बनाए गए हैं. प्रदेश के दूसरे जिलों से आई कॉपियों का मूल्यांकन 27 अप्रैल से शुरू हुआ. पहले दिन तो 10वीं और 12वीं की कुल 6,000 कॉपियां ही जांची गईं. लेकिन इसके बाद बोर्ड ने इसमें और तेजी लाने को कहा. वैसे इस बीच 29 और 30 अप्रैल को छुट्टी होने के चलते दो दिन मूल्यांकन नहीं हो सका. बोर्ड को-ऑर्डिनेटर प्रमोद कुमार ने बताया कि तीन मई को बीएड एंट्रेस होने के कारण उस दिन भी कॉपियां नहीं जांची जा सकीं. वहीं, मूल्यांकन पूरा करने के लिए बोर्ड की ओर से पहले 11 मई की डेट तय की गई थी जिसे बढ़ाकर 13 मई कर दिया गया. बोर्ड को-ऑर्डिनेटर ने बताया कि मूल्यांकन के लिए 15 दिन का समय निर्धारित होता है. इसे लेकर बोर्ड की ओर से साफ निर्देश आया है कि तय लिमिट में हर हाल मूल्यांकन कार्य पूरा किया जाए. जिसके बाद सभी केंद्रों के परीक्षकों को तेजी से कॉपियां जांचने को कहा गया है.

एक परीक्षक 50 कॉपी

बता दें, बोर्ड के नियम के मुताबिक मूल्यांकन केंद्र पर एक परीक्षक एक दिन में अधिकतम 50 कॉपियां ही चेक कर सकता है. इसके लिए 10वीं क्लास के लिए 8 रुपए प्रति कॉपी और 12वीं के लिए 10 रुपए निर्धारित हैं. मूल्यांकन सुबह 10 से शाम 5 बजे तक चलता है. बोर्ड को-ऑर्डिनेटर ने बताया कि मूल्यांकन में लगाए गए परीक्षक विषय संबंधित हैं. इस कारण तेजी से कॉपियां जांचने में उन्हें कोई विशेष दिक्कत भी नहीं हो रही. अगर यूपी बोर्ड मुख्यालय की ओर से तैनात परीक्षक का विषय ड्यूटी में दूसरा निकल जाए तो केएम-9 प्रोफार्मा के तहत डीआईओएस ऑफिस से उसका विषय संशोधन कर दिया जा रहा है.

ये टीचर्स ही कर सकते हैं चेकिंग

डीआईओएस ऑफिस से मिली जानकारी के मुताबिक, मूल्यांकन केंद्र पर आने वाली बोर्ड की कॉपियों की चेकिंग मान्यता प्राप्त माध्यमिक विद्यालय के शिक्षक ही कर सकते हैं. बोर्ड को-ऑर्डिनेटर ने बताया कि यहां राजकीय, एडेड और नॉन एडेड विद्यालय के शिक्षकों की ही ड्यूटी बोर्ड की तरफ से लगाई गई है.

किस दिन कितनी चेकिंग

तारीख 10वीं की कॉपी 12वीं की कॉपी

27 अप्रैल 6,000 (10वीं व 12वीं दोनों)

28 अप्रैल 30,127 12,235

29 अप्रैल छुट्टी

30 अप्रैल संडे

1 मई 55,243 43,824

2 मई 36,375 35,608

3 मई बीएड एंट्रेंस

4 मई 33,733 44,425

5 मई 36,463 53,739

6 मई 34,311 48,134

कुल - 2,26,252 2,37,965

नोट - 10वीं और 12वीं दोनों मिलाकर 4,70,217 कॉपियों का मूल्यांकन हो चुका है.

10वीं के मूल्यांकन केंद्र

केंद्र परीक्षक डिप्टी हेड

एमएसआई इंटर कॉलेज 517 53

तुलसी दास इंटर कॉलेज 424 43

नेहरू इंटर कॉलेज 678 67

10वीं के लिए मूल्यांकन

एमएसआई इंटर कॉलेज - 1,81,206 कॉपियां मिलीं

तुलसी दास इंटर कॉलेज - 1,81,496 (और कॉपियां आएंगी)

नेहरू इंटर कॉलेज - 70,888 (और कॉपियां आएंगी)

12वीं के मूल्यांकन केंद्र

केंद्र परीक्षक डिप्टी हेड

एमजी इंटर कॉलेज 423 38

राजकीय जुबिली इंटर कॉलेज 447 55

सेंट एंड्रयूज इंटर कॉलेज 409 44

12वीं के लिए मूल्यांकन

एमजी इंटर कॉलेज - 1,13,832 कॉपियां मिलीं

राजकीय जुबिली इंटर कॉलेज - 2,23,760 कॉपियां मिलीं

सेंट एंड्रयूज इंटर कॉलेज - 2,70,192 कॉपियां मिलीं

वर्जन

मूल्यांकन कार्य तेजी से चल रहा है लेकिन किसी भी परीक्षक पर कोई प्रेशर नहीं है. उनकी ड्यूटी बोर्ड की ओर से ही लगाई गई है. जो मानक है उनके अनुसार उन्हें भुगतान किया जाएगा.

- एएन मौर्य, डीआईओएस