क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ : लोक आस्था और सूर्य उपासना के महापर्व छठ पर छठी मइया के गीत से न सिर्फ रांची की गलियां और सड़कें गुंजायमान हो रही हैं, बल्कि रांची के बिरसा मुंडा केंद्रीय समेत राज्य की विभिन्न जेलों में बंद कैदी भी सूर्योपासना के व्रत को श्रद्धापूर्वक कर रहे हैं. इसके लिए जेल प्रशासन की ओर से भी खासतौर पर तैयारी की गई है. जेल प्रशासन की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक, अभी तक चार महिला बंदियों ने छठ उपासना करने की ठानी है. जेल प्रशासन के मुताबिक, इनकी संख्या बढ़ भी सकती है. इसलिए जेल प्रशासन पूर्व से ही पूरी तैयारी किए हुए है.

जेल कैंपस में तालाब की सफाई

बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा के अधीक्षक अशोक कुमार चौधरी के मुताबिक, इन छठव्रती कैदियों के लिए सारी व्यवस्थाएं जेल प्रशासन ने की है. जेल प्रशासन ने जेल के भीतर स्थित तालाब को साफ करवाकर उसमें गंगाजल डलवा दिया है, जहां श्रद्धालु भगवान भास्कर को अ‌र्ध्य अर्पित करेंगे. अशोक कुमार चौधरी ने कहा कि छठ कर रहे कैदियों को प्रसाद, सूप, टोकरी के साथ नए कपड़े भी मुहैया कराए हैं. साथ ही बंदियों के बीच पूजन सामग्री भी बांटी गई है. उन्होंने बताया कि भले ही व्रत कुछ बंदी ही कर रहे हैं, लेकिन उनकी मदद सभी कैदी कर रहे हैं. बिरसा मुंडा केंद्रीय कारा में प्रतिवर्ष छठ होता है. कारा में छठ के कर्णप्रिय गीत गूंज रहे हैं. रविवार को नहाय खाय के साथ ही वहां के व्रतियों के लिए जेल प्रशासन की ओर से व्यवस्थाएं की गई हैं.