लखनऊ (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को जैन मुनि तरुण सागर जी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया।  51 वर्ष की उम्र में जैन मुनि तरुण सागर जी महाराज ने आज शनिवार सुबह करीब 3 बजे अंतिम सांस ली। तरुण सागर जी महाराज इधर काफी दिनों से बीमार थे। मुख्यमंत्री कार्यालय से जारी शाेक संदेश में सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिवंगत आध्यात्मिक गुरु की सेवाओं को याद किया।

अपने उपदेशों के माध्यम से समाज को सही दिशा दिखाई

सीएम ने कहा कि तरुण सागर जी महाराज ने एक संत के रूप में हमेशा अपने उपदेशों के माध्यम से समाज को सही दिशा दिखाई। इतना ही नहीं आने वाले समय में उनकी आवाज उनके लाखों प्रशंसकों को आैर समाज को मार्गदर्शन देने का काम करेगी। दिवंगत मुनि को श्रद्धांजलि देते हुए तरुण सागर के प्रशंसकों के प्रति अपनी सहानुभूति प्रकट भी प्रकट की। जैन मुनि तरुण सागर महाराज ने जैन परंपराआें का अच्छे से निर्वाह किया।

तरुण सागर जी बिना कपड़ों के पैदल यात्रा करते थे

इंडिया टीवी के एक कार्यक्रम रिपोर्ट के मुताबिक मध्यप्रदेश के दमोह जिले के एक गांव में जन्में तरुण सागर ने 13 साल की उम्र में घर छोड़ दिया था आैर सन्यासी बन गए थे। 20 साल की उम्र में इन्होंने दिगंबर मुनि दीक्षा ली थी। तरुण सागर हमेशा बिना कपड़ों के पैदल यात्रा करते थे। दुनिया भर में इनके करोड़ों अनुयार्इ है। इनको लेकर कहा जाता है कि ये कड़वे प्रवचन देते थे लेकिन बावजूद इसके ये लोगों के बीच लोकप्रिय हुए।

जानें कैसे जैन मुनि तरुण सागर जलेबी खाते-खाते बन गए थे संत, बता गए दिगंबर मुनि की पहचान

'जहां रस बरसे वह रसोई, जहां किच-किच हो वह किचन' यहां पढें जैन मुनि तरुण सागर के 7 अनमोल वचन

National News inextlive from India News Desk