वेडनसडे शाम जिला महिला अस्पताल में रीना ने दिया था जन्म,

कुछ घंटों बाद ही बच्चे ने तोड़ा दम

<वेडनसडे शाम जिला महिला अस्पताल में रीना ने दिया था जन्म,

कुछ घंटों बाद ही बच्चे ने तोड़ा दम

BAREILLY BAREILLY

डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल में बच्चों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। वेडनसडे नाइट को भी एक बच्चे की मौत हो गई। परिवार वालों ने डॉक्टर्स और स्टाफ पर लापरवाही का अरोप लगाते हुए थर्सडे को हंगामा किया। परिवार वालों के गुस्से को देखते हुए काफी देर तक अधिकारियों ने उन्हें समझाया और संबधित डॉक्टर और स्टाफ पर कार्रवाई करने की बात कही, जिसके बाद परिवार वाले शांत हुए।

वेडनसडे को कराया था भर्ती

कैंट एरिया के क्यारा गांव के संतोष कुमार ने अपनी गर्भवती पत्‍‌नी रीना को वेडनसडे को भर्ती कराया था। शाम करीब पांच बजे उसकी डिलीवरी हुई। डिलीवरी होने के बाद उसे जच्चा-बच्चा वार्ड में भर्ती करा दिया गया था। वार्ड में पहुंचने के बाद बच्चे और मां से परिवार वालों ने मुलाकात की। मुलाकात के दौरान ही बच्चे की तबीयत बिगड़ने लगी। ऐसे में स्टाफ ने परिवार वालों को वार्ड से बाहर कर दिया।

डॉक्टर ने नहीं सुनी बात

बच्चे की तबीयत बिगड़ने पर संतोष डॉक्टर के पास पहुंचकर बच्चे को देखने के लिए कहा, लेकिन डॉक्टर ने बच्चे को देखने से मना कर दिया। परिवार वालों ने जब वार्ड में दोबारा जाने की कोशिश की तो गेट पर तैनात स्टाफ ने उन्हें नहीं जाने दिया। जिसके बाद काफी देर तक परिवार वाले गेट के पास ही बैठे रहे। रात करीब 9 बजे अचानक स्टाफ द्वारा संतोष को बच्चे की मौत की खबर दी गई, जिससे पूरे परिवार में विलाप होने लगा।

थर्सडे को किया हंगामा

थर्सडे सुबह संतोष अपने परिवार वालों के साथ डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल पहुंचा और वार्ड के गेट पर तैनात स्टाफ पर रिश्वत मांगने और डॉक्टर की लापरवाही का आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन करने लगा। यह देख स्टाफ ने तुरंत ही अधिकारियों को सूचना दी। मौके पर अधिकारियों ने परिवार वालों को समझाया और संबधित के खिलाफ जांच कराने की बात कही।

मामला मेरे ज्वाइन करने से पहले का है, मेरे संज्ञान में मामला आया है। जांच कराई जाएगी और दोषी पाये जाने पर कार्रवाई होगी।

डॉ। साधना सक्सेना

सीएमएस, जिला महिला अस्पताल