बाल आयोग ने मारा रेस्टोरेंट पर छापा

रेस्टोरेंट मालिक के खिलाफ दर्ज कराई एफआईआर

देहरादून. शहर के एक नामचीन रेस्टोरेंट में छापेमारी के दौरान 4 बाल मजदूर पकड़े गए. बाल आयोग द्वारा मामले में रेस्टोरेंट ओनर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी गई है साथ ही रेस्टोरेंट का चालान कर दिया गया है.

मिली थी सूचना

बचपन बचाओ संस्था को दून के नामी रेस्टोरेंट द बुफे में चार बाल मजदूरों के काम करने की सूचना मिली थी. संस्था की ओर से बाल अधिकार संरक्षण आयोग को इसकी जानकारी दी गई. बाल आयोग की अध्यक्ष ऊषा नेगी और सदस्य शारदा त्रिपाठी मौके पर पहुंचे. मौके से आयोग की टीम को दो बच्चे मिले. बताया जा रहा है कि इससे पहले ही दो बच्चे रेस्टोरेंट मालिक ने भगा दिए थे. आयोग की सदस्य शारदा त्रिपाठी ने बताया कि छापेमारी के बाद जब धारा चौकी में रिपोर्ट लिखवाने का प्रयास किया गया तो पुलिस ने मना कर दिया. इस पर जेजे एक्ट प्रभारी और सीओ विकासनगर पंकज गैरोला को फोन किया गया, उनके हस्तक्षेप के बाद पुलिस वालों ने मामले की सुनवाई की और रिपोर्ट दर्ज की.

--

अभी इस मामले में तहरीर नहीं आई है. जब पुलिस गई तो बच्चे दुकान में नहीं मिले. बच्चे बरामद करने पर और बयान दर्ज करने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी.

- कुलदीप पंत, धारा चौकी प्रभारी

--

नवजात पहुंचे शिशु सदन

करीब 24 दिन बाद दून हॉस्पिटल में भर्ती दो नवजातों को शिशु सदन में जगह मिली. यहां इनके नाम अंकित और अंकिता रखे गए. अब शिशु सदन में नन्हे बच्चों की संख्या तीन हो गई. यहां पहले से ही एक मानसिक संवासिनी की तीन माह की बेटी रह रही है.