लापरवाहों के खिलाफ कार्रवाई
जानकारी के मुताबिक इस बच्‍चे का जन्‍म एक महीने किसी प्राइवेट नर्सिंग होम में हुआ था। जिसके बाद इसकी तबियत बिगड़ गई तो परिजनों ने जिला अस्‍पताल में भर्ती कराया था। जहां पर सोने के दौरान बच्‍चे की नाक को चूहा कुतर गया। हालांकि हॉस्‍पिटल प्रशासन इस बात को नहीं मान रहा है कि चूहे ने बच्‍चे की नाक कुतर दी है। उसका कहना है कि वार्ड में जिनकी डयूटी थी, उन्‍होंने लापरवाही की। जिसके चलते यह कार्रवाई की गई है।

सामान तक उठा ले जाते चूहा
वहीं हॉस्‍पिटल में एडमिट मरीजों के तीमारदारों का कहना है कि वार्डों में बड़े-बड़े चूहे हैं, जो आए दिन सामान को काट जाते हैं। कई बार इसकी शिकायत हॉस्‍पिटल के अधिकारियों से कही है, लेकिन उन्‍होंने कोई सुनवाई नहीं की है।

National News inextlive from India News Desk