-राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग की टीम ने की देवरिया शेल्टर होम कांड की जांच, दो दिन में मंत्रालय करेगा खुलासा

GORAKHPUR: देवरिया शेल्टर होम में कथित सेक्स रैकेट कांड की जांच करने गुरुवार को नई दिल्ली से राष्ट्रीय बाल संरक्षण आयोग की पांच सदस्यीय टीम पहुंची. टीम को तीन घंटे तक 42 पीडि़ता ने अपने दर्द को बया किया. सूत्रों के अनुसार, किशोरियों का दर्द सुन अधिकारी भी अंदर से सिहर गए. पूछताछ के दौरान कुछ लड़कियां तो रो पड़ी. टीम के सदस्यों ने फिलहाल मिल रही सुविधाओं को भी जानने का प्रयास किया. पूरी पूछताछ के दौरान देवरिया डीएम और एसएसपी मौजूद रहे.

दो दिन में मंत्रालय को देंगे रिपोर्ट

टीम के गोरखपुर पहुंचते ही हड़कंप मच गया. दोपहर एक बजे टीम गोरखपुर से देवरिया के लिए रवाना हुई. टीम में मनोवैज्ञानिक डॉ. आरजी आनंद, सदस्य गौरी शंकर तेनगिन्कल, कंस्लटेंट पूजा जसवानी व हिमानी नौटियाल शामिल है. मनोवैज्ञानिक डॉ. आरजी आनंद ने दैनिक जागरण आई नेक्स्ट रिपोर्टर को बताया कि देवरिया डीएम और एसएसपी की मौजूदगी में घटना की पूरी रिपोर्ट ली. प्रत्येक लड़कियों से उनकी मनोदशा जानने के साथ-साथ वहां का वातावरण कैसा है. किसी प्रकार प्रताडि़त या यातना दी गई की जानकारी ली गई. कहीं लड़कियां डरी या सहमी तो नहीं हैं. पूरे मामले की रिपोर्ट दो दिन के अंदर महिला व बाल विकास मंत्रालय को सौंप दिया जाएगा. देवरिया शेल्टर होम की जांच करने के बाद टीम मुजफ्फरपुर के लिए रवाना हो गई.