आगरा. पर्यटकों की पहुंच से दूर शेयरिंग साइकिल बच्चों का खिलौना साबित हो रही है. बच्चे दो-दो रुपये घंटे में साइकिल से चारों ओर घूम रहे हैं. साइकिलें भी खराब होने लगी हैं. स्मार्ट सिटी से जुड़े नगर निगम अधिकारी का कहना है कि योजना को बेहतर बनाया जाएगा.

साइकिल की जानकारी नहीं

पर्यटकों को कम खर्च और फे्रंडली पर्यावरण देने के लिए शेयरिंग साइकिल कांस्पेट लाया गया. इसके तहत ताजमहल से लालकिला के बीच पर्यटकों को साइकिल मुहैया कराई जा रही है. दोनों के बीच 8 स्थानों पर पार्किग बनाई गई है और 100 साइकिल उपलब्ध कराई गई हैं. योजना के तहत 20 रुपये घंटे के हिसाब से साइकिल मिलनी है. इन्हें पेटीएम से संचालित किया जा रहा है. इसकी शुरुआत 24 जनवरी को उत्तर प्रदेश के स्थापना दिवस पर की गई. पर योजना की साइकिल पर्यटकों तक नहीं पहुंच पाईं. उन्हें पर्यटन स्थलों तक घूमने के लिए शेयरिंग साइकिल की जानकारी ही नहीं है. वहीं, शिल्पग्राम की साइकिल बच्चे 2-2 रुपये में लेकर घूम रहे हैं. हर दिन 20 से 30 बच्चे साइकिल ले रहे हैं और चारों ओर दौड़ा रहे हैं. बच्चों से साइकिल टूट भी रही है. लोगों का कहना है कि क्षेत्र के आसपास के बच्चे सुबह से ही शिल्पग्राम में पहुंच जाते हैं और 2 रुपये में शेयरिंग साइकिल का मिसयूज कर रहे हैं. इसकी देखरेख करने वाला भी कोई नहीं है. इस कारण से महज 15 दिनों में ही साइकिल की स्थिति जर्जर होने लगी हैं. इसमें सुधार नहीं हुआ, तो शेयरिंग साइकिल कांस्पेट को झटका लगेगा.

पर्यटकों को नहीं है जानकारी

शेयरिंग साइकिल पर्यटकों के लिए खासतौर पर उतारी गई थी. पर पर्यटकों को इन साइकिल के बारे में जानकारी नहीं है. वे ऑटो, रिक्शा या अन्य साधनों से पर्यटन स्थल घूम रहे हैं. वहीं शेयरिंग साइकिल पर बच्चे मौज कर रहे हैं.

कांसेप्ट को नहीं किया लागू

इस कांसेप्ट में साइकिल ऑन लाइन मिलनी है. 200 रुपये सिक्योरिटी के रूप में जमा करनी है और 20 रुपया घंटे साइकिल मिलनी है. साइकिल वापस करते ही 200 रुपये वापस होने हैं. इसके लिए कुछ महीनों के लिए मानिटरिंग सिस्टम भी बनाना था, लेकिन ये व्यवस्था बनाई नहीं गई. नतीजा शेयरिंग साइकिल कांस्पेट अटक रहा है.

हम मीटिंग करके बनाते हैं योजना

स्मार्ट सिटी से जुड़े नगर निगम के एक अधिकारी ने बताया कि हमारा मकसद अधिक से अधिक साइकिल चलवाना है. दो रुपये में बच्चे साइकिल चला रहे हैं. योजना की जानकारी पर्यटक तक नहीं पहुंची है. इस मसले पर जूमकार कंपनी के प्रतिनिधियों से बातचीत की जाएगी.