चिलुआताल एरिया के भौरामल की घटना

ननिहाल में आया था 10 साल का दिलखुश

GORAKHPUR: चिलुआताल एरिया के भौरामल, कोठा में दीया से लगी आग में 10 साल का मासूम जिंदा जल गया. घटना गुरुवार रात करीब 12 बजे हुई. अगलगी में फंसे दो बच्चों को किसी तरह से बचा लिया गया. घटना से पूरे मोहल्ले में मातम पसरा रहा. आग का शिकार बालक अपने नाना के घर आया था. पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है.

दिवाली पर ननिहाल गया थ्ा दिलखुश

सहजनवां के भगौरा निवासी रामरतन की ससुराल भौरामल में राम अवतार के घर है. रामरतन का बेटा दिलखुश अपने नाना मिलने गया था गुरुवार की रात भोजन के बाद वह परिवार के अन्य बच्चों संग घर के सामने झोपड़ी में सोने चला गया. झोपड़ी में रोशनी के लिए दीया जलाया गया था. रात करीब 12 बजे दीया से आग लग गई. नींद से जागे बच्चे अपनी जान बचाकर भाग पाते. इसके पहले झोपड़ी की आग विकराल हो गई. आग लगने पर पास पड़ोस के लाेग जुट गए.

नींद टूटने पर दो बच्चे भागे, फंस गया तीसरा

आग के बढ़ने पर दो बच्चे नींद से जागकर भाग निकले. जबकि, दिलखुश फंसा रह गया. परिवार के लोगों ने आग बुझाकर उसे बचाने की कोशिश की. लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी. झोपड़ी में फंसे बालक की जलने और दम घुटने से मौत हो गई. उसकी जान जाने की सूचना पाकर परिजन पहुंच गए. बालक की मौत से उनके परिवार में दिवाली की खुशियों में मातम छा गया. बच्चे की मौत से पूरे मोहल्ले के लोग शोकाकुल रहे.