-किला पुल के पास सुबह बाइक से जाने के दौरान हुई घटना

-नहीं पहुंची पुलिस तो समाजसेवी ने हॉस्पिटल में कराया इलाज

<-किला पुल के पास सुबह बाइक से जाने के दौरान हुई घटना

-नहीं पहुंची पुलिस तो समाजसेवी ने हॉस्पिटल में कराया इलाज

BAREILLYBAREILLY:

चायनीज मांझा से पहले भी शहर में कितने लोग घायल हो चुके हैं. इसके बाद भी प्रशासन आंखू मूंदे बैठा है. इसी कारण चायनीज मांझे से आए दिन हादसे कम होने की जगह बढ़ रहे है. गुरुवार सुबह रिश्तेदार के घर से बकरीद मना कर लौट रहे बाइक सवार चचेरे भाई किला पुल के पास चाइनीज मांझा की चपेट में आकर लहूलुहान हो गए. बड़े भाई की गर्दन व पूरा चेहरा कट गया तो छोटे भाई भी घायल हो गया. सूचना के बाद भी मौके पर नहीं पहुंची पुलिस. घायल दोनों भाइयों को समाजसेवी ने हॉस्ि1पटल भेजा.

रिश्तेदारी से आ रहे थे वापस

भोजीपुरा के गांव घघोरा घघोरी निवासी रिजवान खान हाईस्कूल की पढ़ाई करने वाले चचेरे भाई अरबाज खान को बाइक से फुफेरे बहनोई सईद खां निवासी नवी नगर कैंट के यहां बकरीद मिलने गया था. सुबह क्0:फ्0 बजे करीब दोनों बाइक से लौट रहे थे. जैसे ही उनकी बाइक किला पुल के पास पहुंची उसी दौरान चाइनीज मांझा उनके सामने गिर पड़ा. जब तक वह समझ पाते तब तक रिजवान की गर्दन व चेहरा कट गया तो वही पीछे बैठा अरबाज भी घायल हो गया. इस दौरान उनकी बाइक भी अनियंत्रित होकर गिर पड़ी. आसपास के लोगों ने देखा तो दौड़ाकर दोनों को उठाया. सूचना पुलिस को दी गई लेकिन पुलिस नहीं पहुंची. उसी दौरान जानकारी पर समाज सेवा मंच नदीम सम्सी पहुंचे और घायलों को डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल पहुंचे जहां उनका इलाज कराया.

किला व पुराना शहर में बड़ा कारोबार

सुप्रीम कोर्ट के रोक के बावजूद भी प्रशासन की लापरवाही से बड़े पैमाने पर चाइनीज मांझा कारोबार हो रहा है. किला व बारादरी के पुराना शहर में ज्यादातर दुकानदार चाइनीज मांझा बेच रहे हैं. वहीं पुलिस को भी जानकारी है लेकिन कभी कोई छापेमारी नहीं की जाती है. आठ महीने पहले हुई घटना के बाद पुलिस ने एक बार अभियान चलाया लेकिन उसके बाद कभी दुकानों की जांच नहीं की गई.