-सालों बाद भी चयनित नहीं हो पाई सिटी बस अड्डे के लिए भूमि, रोहनिया सहित मोहनसराय, राजातालाब में बसना है अड्डा

-मुख्यालय की ओर से एक एकड़ सरकारी जमीन पर सेटल किया जाना है सिटी बस अड्डा

पीएम के संसदीय क्षेत्र में रोडवेज को सिटी बस अड्डा बसाने के लिए जमीन ही नहीं मिल रही है. जबकि इसकी कवायद पिछले दो सालों से की जा रही है. पहले हरहुआ, शिवपुर में बस अड्डा बसाने की प्लानिंग थी मगर जमीन नहीं मिलने के कारण इस एरिया से रोडवेज ने अपना ध्यान हटा लिया, अब रोहनिया, मोहनसराय सहित राजातालाब में बस स्टेशन के लिए जमीन खोजी जा रही है. एरिया के लेखपालों सहित अन्य कर्मचारियों को लगभग एक एकड़ सरकारी जमीन की रजिस्ट्री कराने के लिए लगाया गया है. लेकिन सफलता इसमें भी नहीं मिल रही है. वहीं मुख्यालय से बार-बार भूमि चयनित करने के लिए आरएम को निर्देशित किया जा रहा है.

रोडवेज बस स्टेशन पर नहीं है जगह

सिटी ट्रांसपोर्ट सर्विसेज की 130 बसों के लिए नया बस स्टेशन बसाने की बात पिछले कई सालों से चली आ रही है. फिलहाल काशी डिपो और कैंट डिपो के जिम्मे सिटी बसें संचालित कराई जा रही हैं. काशी डिपो और कैंट बस स्टेशन पर भी जगह की कमी के चलते सिटी बस के संचालन में काफी अड़चनें आ रही है. कैंट में तो हर दिन ट्रैफिक जाम में फंसकर बसें प्रभावित हो रही है. वहीं रोडवेज की बसें भी इसी चक्कर में प्रभावित होती हैं.

ट्रैफिक जाम से मिलेगी निजात

शहर में ट्रैफिक कंट्रोल करने की दशा में ही सिटी बसों को शहर से बाहर भेजने की कवायद चल रही है. क्योंकि कैंट रोडवेज बस स्टेशन के पास ही जाम का नजारा हर दिन देखने को मिलता है. इस लिहाज से कैंट से संचालित होने वाली बसों को शहर से थोड़ा दूर हटकर संचालन पर जोर दिया जा रहा है. यदि सिटी बस के लिए जगह मिलती है तो सबसे अधिक राहत ट्रैफिक जाम से मिलेगी.

सिटी बस अड्डा बसाने के लिए जमीन की तलाश की जा रही है. हालांकि अभी तक राजातालाब सहित रोहनिया में जमीन देखी गई है लेकिन सड़क के नजदीक जमीन न होने के कारण रिजेक्ट कर दिया गया है.

केके शर्मा, आरएम

बनारस रीजन