संसद का विशेष सत्र
पाकिस्‍तान में सियासी भूचाल इस कदर हावी है कि सभी एक-दूसरे को खा जाने की फिराक में लगे हुये हैं. खबरों के मुताबिक, पीएम नवाज शरीफ ने ससंद का विशेष सत्र बुलाया है. इस संयुक्‍त सत्र में ताहिर उल कादरी की पार्टी अवामी तहरीक को बैन करने और आर्मी चीफ से इस्‍तीफा मांगने का प्रस्‍ताव लाया जायेगा. हालांकि इससे पहले आर्मी चीफ और नवाज के बीच इस मौजूदा हालात को लेकर मी‍टिंग भी हुई थी. आपको बता दें कि इस मीटिंग के बाद ही नवाज ने यह डिसीजन लिया है.    

पाकिस्‍तान में बिगड़े हालात
पाकिस्‍तान में दिनों-दिन हालात बिगड़ते चले आ रहे हैं. इसी कड़ी में आज सुबह प्रदर्शनकारी पहले सचिवालय और उसके बाद सरकारी टीवी चैनल पीटीवी के ऑफिस में घुय गये थे. इसके साथ ही प्रदर्शनकारियों ने पीटीवी का प्रसारण भी बंद करवा दिया था. हालांकि सुरक्षा बलों ने सभी प्रदर्शनकारियों को बाहर निकाल दिया है. इस बीच इमरान खान और कादरी ने अपने कार्यकर्ताओं से कहा है कि वे किसी भी सरकारी इमारत में न घुसें और किसी तरह की हिंसा न करें.

सेना ने संभाली स्‍िथति
पाक में जिस तरह से हालात बेकाबू होते नजर आ रहे हैं, उसे देखकर लगता है कि पाक सरकार को कुछ नया कदम उठाना ही पड़ेगा. सोमवार को एक बार फिर पीएम आवास की ओर बढ़ रहे 3 हजार से ज्‍यादा प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिये पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े. इससे पहले भी प्रदर्शनकारियों ने गेट तोड़कर अंदर घुसने की कोशिश की थी. इसके साथ ही जब प्रदर्शनकारियों ने टीवी चैनल पर हमला किया था, तो उन्‍हें रोकने के लिये सेना बुलाई गई तक जाकर स्थिति पर काबू पाया जा सका.

शरीफ पर बढ़ रहा दबाव

एक ओर जहां नवाज आर्मी चीफ का इस्‍तीफा मांग रहे हैं तो वहीं देसरी ओर शरीफ पर भी इस्‍तीफा देने का दबाव बढ़ गया है. मौजूदा हालात को देखते हुये वहो एक बार फिर सेना द्वारा देश की बागडोर अपने हाथ में लेने की संभावना बढ़ गई है. उधर दूसरी ओर सेना ने सरकार और प्रदर्शनकारियों से इस गतिरोध का शांतिपूर्ण हल निकालने की अपील की है. इसके साथ ही आगाह भी किया है कि वह देश की सुरक्षा के लिये अपनी भूमिका निभाने के लिये प्रतिबद्ध है. रविवार की रात सेना के कोर कमांडरों ने एक आपात बैठक बुलाई और देश के राजनीतिक संकट को लेकर गंभीर चिंता जताई. आपको बता दें कि किक्रेटर से राजनेता बने इमरान खान की पार्टी पीटीआई और मौलाना ताहिर उल कादरी की पार्टी के समर्थकों द्वारा किये जा रहे सरकार विरोधी प्रदर्शनों में लगातार तीन दिनों से हिंसा का दौर जारी है.

Hindi News from World News Desk

International News inextlive from World News Desk