न्ष्ठढ्ढञ्जङ्घन्क्कक्त्र : जगन्नाथपुर राजकीय पालीटेक्निक में नामांकन ले चुके 240 स्टूडेंट्स का भविष्य अधर में है. ये स्टूडेंट्स 15 दिन से आदित्यपुर और खरसावां पालीटेक्निक के चक्कर लगा रहे हैं. लेकिन अभी तक स्टूडेंट्स के क्लास का स्थान तय नहीं हो पाया है. बताते चलें कि स्टेट बोर्ड ऑफ टेक्निकल एजुकेशन रांची द्वारा चाईबासा स्थित जगन्नाथपुर राजकीय पालीटेक्निक कॉलेज के विभिन्न ब्रांच में 240 विद्यार्थियों का नामांकन कराया गया था. लेकिन अभी तक वहां पर कोर्स की शुरुआत नहीं हो पाई है.

नहीं हैं सुविधाएं

जगन्नाथपुर राजकीय पालीटेक्निक में प्रैक्टिकल की सुविधा नहीं होने पर सचिव ने राजकीय पालीटेक्निक खरसवां में छात्रों को अटैच करने का आदेश दिया था. जगन्नाथपुर पालीटेक्निक के छात्रों के खरसावां पहुंचने पर पालीटेक्निक प्रबंधन ने सुविधा नहीं होने का हवाला देते हुए और विभाग की ओर से कोई भी लिखित सूचना नहीं मिलने के चलते कक्षाएं लेने से इंकार कर दिया.

मॉर्निग-इवनिंग शिफ्ट मेंचले क्लासेज

कॉलेज में प्रभारी प्रचार्या एस के महतो ने बताया कि एसबीटीई के निदेशक डा. अरुण कुमार को मेल के माध्यम से समस्या से अवगत कराया गया. वहीं छात्रों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए जल्द से जल्द कक्षाएं संचालित करने का अग्रह किया गया है. वहीं राजकीय पालीटेक्निक जगन्नाथपुर के प्रभारी प्राचार्य ने विभाग को प्रस्ताव भेजकर छात्रों को आदित्यपुर पालीटेक्निक में ही मार्निंग और शाम शिफ्ट में कक्षाएं चलाने का आग्रह किया है.

नहीं हैं फैकल्टी कैसे होगी पढ़ाई

राजकीय पालीटेक्निक जगन्नाथपुर में सिविल इंजीनिर्यंरग, मैकेनिकल, कंप्यूटर साइंस, इलेक्ट्रिकल इंजीनिय¨रग ब्रांच में छात्रों का एडमिशन लिया गया गया है,जबकि खरसावां पालीटेक्निक में इनमें से कोई भी ब्रांच नहीं है. प्रधानाचार्य ने बताया कि छात्रों को कॉमन स्टडी के तौर पर फिजिक्स, केमेस्ट्री, मैथ, अंग्रेजी व कंप्यूटर की कक्षाएं दी जाएगी.

इसी सत्र में शुरु होनी थी कक्षाएं

राजकीय पालीटेक्निक जगन्नाथपुर में इसी सत्र 2018-21 में ही कक्षाएं लगनी थी. पालीटेक्निक में फैकल्टी और प्रैक्टिकल की व्यवस्था न होने के चलते ही राजकीय पालीटेक्निक खरसावा में कक्षाएं चलाने का आदेश दिया गया था. राजकीय पालीटेक्निक खरसावा के प्रधानाचार्य सुरेंद्र शर्मा ने बताया बच्चों का संयोजन कर लिया गया हैं. हॉस्टल में जगह नहीं है. इसके लिए बच्चों को बाहर कमरा लेकर क्लास लेनी होगी.