स्मार्ट इनिशिएटिव

-स्मार्ट सिटी के तहत घरों के बाहर नगर निगम लगाएगा आरएफआईडी टैग, डोर-टू-डोर होगा कूड़ा कलेक्शन

-कूड़ा उठाने वाला कर्मी घर के बाहर लगे टैग में करेगा पंच, पहले 21 वार्डो में की जाएगी शुरुआत

-1 लाख 40 हजार स्मार्ट डस्टबिन भी खरीदे जाएंगे, 87 करोड़ का प्रोजेक्ट, आचार संहिता हटने के बाद होगा टेंडर

kanpur@inext.co.in
KANPUR : स्मार्ट सिटी के तहत यहां दी जाने वाली फैसिलिटीज को भी 'स्मार्ट' बनाने के लिए नगर निगम ने प्रयास शुरू कर दिए हैं। जिसके तहत सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट को और प्रभावी बनाने के लिए घरों के बाहर रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन डिवाइस (आरएफआईडी टैग) लगाए जाएंगे। इसकी मदद से इंश्योर किया जाएगा कि घर से कूड़ा उठा या नहीं। फ‌र्स्ट फेज में इसे सोर्स सेग्रीगेशन के तहत सेलेक्ट 21 वार्ड में शुरू किया जाएगा। पूरे शहर में इस कार्य को करने के लिए 87 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। स्मार्ट सिटी की प्रभारी पूजा त्रिपाठी के मुताबिक आचार संहिता हटने के बाद इस प्रोजेक्ट के लिए टेंडर ओपन होंगे।

इस प्रकार करेगा काम
सोर्स सेग्रीगेशन के तहत 21 वार्ड में सूखा और गीला कूड़ा अलग-अलग डोर-टू-डोर कलेक्ट किया जा रहा है। फ‌र्स्ट फेज में 1,02,506 घरों के बाहर आरएफआईडी टैग लगने के बाद सफाई कर्मी पहले टैग में पंच करेगा। नगर निगम मुख्यालय स्थित कंट्रोल एंड कमांड सेंटर में इसकी सूचना जाएगी और पता चल जाएगा कि कूड़ा कलेक्ट कर लिया गया है। इसके लगने के बाद से घरों से रोज कूड़ा उठेगा और सफाई कर्मी लापरवाही नहीं कर सकेंगे।

स्मार्ट डस्टबिन भी लगेंगे
शहर में स्मार्ट डस्टबिन लगाए जाएंगे, जिसके भरने पर वह खुद ही नगर निगम कर्मियों को सूचित करेंगे कि वह भर चुके हैं और उनको खाली किया जाए। हाईटेक तरीके से डिजाइन लोडर, डंपर और टिपर गाडि़यों को बड़े पैमाने पर 65 करोड़ के बजट से खरीदा जा रहा है। इसके अलावा 1,40,000 स्मार्ट डस्टबिन भी शहर में जगह-जगह लगाए जाएंगे। सभी कामों को 9 महीने से भी कम वक्त में पूरा किया जाएगा।

ऐसे होंगे स्मार्ट डस्टबिन
स्मार्ट सिटी के कार्यो के अंतर्गत शहर की सभी गलियों, चौराहों, सार्वजनिक स्थानों, पार्को आदि में आवश्यकतानुसार छोटे-बड़े कवर्ड डस्टबिन रखे जाएंगे। इसमें आरएफआईडी टैग भी लगाया जाएगा। इसके साथ ही कूड़ा गाडि़यों में भी आरएफआईडी रीडर और जीपीएस लगेगा। कूड़ा गाड़ी द्वारा कूड़ा उठाने पर गाड़ी में लगा रीडर डस्टबिन में लगे टैग को रीड कर कंट्रोल एंड कमांड सेंटर को मैसेज देगा कि कूड़ा उठ चुका है। कूड़ा नहीं उठने पर कमांड सेंटर में लगे वॉल्यूम सेंसर से पता चल जाएगा कि किस जगह का कूड़ा नहीं उठाया गया है।

एप से भी जुड़ेंगे डस्टबिन
स्मार्ट सिटी में कूड़ा प्रबंधन को और स्मार्ट बनाने के लिए इसे मोबाइल एप से भी कनेक्ट किया जाएगा। अपने आसपास लगे डस्टबिन की जानकारी आपके मोबाइल पर होगी। इसके लिए स्मार्ट सिटी के एप को डाउनलोड कर कोई भी व्यक्ति एप के माध्यम से सजेशन और कंप्लेन कर सकेगा।

आंकड़ों में पूरा प्रोजेक्ट

-87 करोड़ का है कूड़ा प्रबंधन का पूरा प्रोजेक्ट।

-65 करोड़ से खरीदे जाएंगे स्पेशल पर्पज व्हीकल।

-1,02,506 घरों में फ‌र्स्ट फेज में लगाए जाएंगे आरएफआईडी।

-1,40,000 स्मार्ट डस्टबिन शहर के कोने-कोने में लगाए जाएंगे।

-21 वार्डो में फ‌र्स्ट फेज में शुरू की जाएगी यह योजना।

डोर-टू-डोर कूड़ा कलेक्शन सुनिश्चित करने के लिए घरों में आरएफआईडी टैग लगाए जाएंगे। इससे कर्मी लापरवाही नहीं कर पाएंगे। आचार संहिता हटने के बाद इस प्रोजेक्ट के लिए टेंडर ओपन होंगे।

- पूजा त्रिपाठी, सहायक नगर आयुक्त व स्मार्ट सिटी प्रभारी.