आज भी वकील नहीं करेंगे कोई काम

मुख्यमंत्री के सामने किया जाएगा विरोध प्रदर्शन

Meerut. एक बार फिर 22 जिलों के अधिवक्ता वेस्ट यूपी में हाईकोर्ट बेंच की मांग को लेकर एकजुट हो गए है. वे 24 मई को शामली में आ रहे मुख्यमंत्री के सामने विरोध प्रदर्शन भी करेंगे. वकीलों ने आम लोगों से भी आंदोलन में जुड़ने की अपील की है. इसके लिए 24 को कचहरी में तालाबंदी भी रहेगी.

बैठक में फैसला

कचहरी स्थित पंडित नानक चंद सभागार में मेरठ बार एसोसिएशन व जिला बार एसोसिएशन के नेत्त्व में मंगलवार को एक सभा हुई. मेरठ बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र सिंह जानी ने बताया कि मीटिंग में निर्णय लिया गया है कि शामली में मुख्यमंत्री के आगमन पर बेंच की मांग के लिए वेस्ट यूपी के 22 जनपदों के वकील विरोध-प्रदर्शन करेंगे. इस दिन कचहरी स्थित सभी दुकानें, चैंबर्स बंद रहेंगे. टाईपिस्ट, दस्तावेज लेखक, लिपिक वकील कोई काम नहीं करेंगे. विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि भी 24 को सुबह 8 बजे कचहरी पहुंचकर बसों से शामली रवाना होंगे. 24 की तैयारी के लिए 23 मई को भी सभी वकील न्यायिक कार्य से विरत रहेंगे. मेरठ बार एसोसिएशन के महामंत्री देवकी नंदन शर्मा ने बताया कि अगर कोई वकील काम करता मिला, तो उस पर जुर्माना लगेगा.

िकया प्रचार

आंदोलन को कामयाब बनाने के लिए वकीलों ने मंगलवार को कचहरी में जीप व ई रिक्शा से प्रचार किया गया. इस दौरान आम जनता से भी आंदोलन में भाग लेने की अपील की गई.

शामिल हुए विभिन्न लोग

सभा में विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हुए, जिनमें इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के अध्यक्ष डा. मेधावी तोमर, भारतीय किसान यूनियन के कुलदीप त्यागी, सेंट्रल यूनियन वेलफेयर के अध्यक्ष एसके शर्मा, दस्तावेज लेखक एसोसिएशन के अध्यक्ष मनोज कुराली, उप्र उद्योग व्यापार मंडल अध्यक्ष विष्णु दत्त पराशर, उदय सिंह वीर संजय शर्मा, प्रबोध शर्मा, लोकेश कुमार चौहान, मनोज शर्मा, फुरकान रिजवी आदि रहे.