GORAKHPUR: गोरक्षपीठाीश्वर सह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को गुरु पूर्णिमा पर शिष्य और गुरु दोनों भूमिका में दिखे. उन्होंने सबसे पहले गोरक्षपीठाधीश्वर के दायित्व का निवर्हन करते हुए गोरखनाथ मंदिर में गुरु गोरक्षनाथ की पूजा अर्चना की. उसके बाद अपने गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पूजा अर्चना कर आशीर्वाद लिया. फिर स्वयं गोरक्षपीठाधीश्वर की भूमिका में मठ के तिलक हाल में शिष्यों से तिलक कराया. आशीर्वाद देते हुए शिष्यों के माथे पर भी चंदन का तिलक लगाया.

देर रात से इंतजार था विशेष समारोह का

गुरु पूर्णिमा पर सुबह से ही मंदिर में श्रद्धालुओं का तांता लगा था. दिल्ली, कोलकाता, हरियाणा, मथुरा, अयोध्या, बिहार, राजस्थान, गुजरात, नोयडा समेत कई प्रांत से नाथ संप्रदाय में आस्था रखने वाले शिष्य गुरुवार की रात से ही मंदिर पहुंचने लगे थे. सभी को इंतजार था कि कब परम्परागत रूप से गोरक्षपीठ के तिलक हाल में गुरु पूर्णिमा का विशेष समारोह शुरू होगा. तिलक हाल में शूरू होने वाला आयोजन तकरीबन 2 घंटे विलंब से 12.05 बजे से शुरू हुआ और 2 बजे तक चला.

संतों ने लगाया सबसे पहले तिलक

श्री गोरक्षपीठ गोरखनाथ मंदिर के प्रधानपुजारी योगी कमलनाथ की अगुवाई में गोरखनाथ मंदिर व उससे जुड़े अन्य मंदिरों के महंत एवं विभिन्न राज्यों एवं जिलों से आए संतसमाज ने सबसे पहले गोरक्षपीठाधीश्वर की पूजा अर्चना कर उन्हें तिलक लगाया. बदले में योगी आदित्यनाथ ने भी आशीर्वाद के रूप में सभी को चंदन का टीका लगाया.

राकेश श्रीवास्तव ने भजनों से बांधा समा

लोकगायक राकेश श्रीवास्तव व उनकी टीम ने तिलक हाल में गुरु पूर्णिमा पर भजन की प्रस्तुति की. गुरु गोरखनाथ की महिला का वर्णन करते हुए राकेश श्रीवास्तव ने अपने भजनों से श्रद्दालुओं की श्रद्धा को और गाढ़ा किया.

गुरु से आशीर्वाद हासिल कर अभिभूत दिखे लोग

गुरु पूर्णिमा पर योगी आदित्यनाथ का आशीर्वाद हासिल करने वालों में सांसद, विधायक, पार्षद हिन्दू युवा वाहिनी के पदाधिकारी, भाजपा पदाधिकारी-कार्यकर्ता समेत शिक्षाविद, व्यापारी, डाक्टर व सभी वर्गो से लोग उपस्थित रहे. हालांकि प्रथम चरण में 200 लोगों को ही तिलक हाल में प्रवेश मिला. लेकिन बाद में अंदर के लोगों के निकलने के बाद कुछ और लोगों को भी प्रवेश मिला. मंदिर के चबूतरे पर 200 से ज्यादा लोगों की भीड़ अंदर जाने के लिए व्याकुल होकर योगी आदित्यनाथ जिंदाबाद के नारे भी लगा रही थी.

महायोगी गुरु गोरखनाथ को चढ़ाया रोट का प्रसाद

योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार सुबह 5 बजे महायोगी गुरु गोरखनाथ की मुख्य मंदिर में पूजा अर्चना की. इस दौरान गोरखनाथ मंदिर के सभी महंत और पुजारी उपस्थित रहे. उसके बाद उन्होंने रोट का प्रसाद चढ़ाया. साथ ही मंदिर परिसर में उपस्थित सभी देव विग्रहों की पूजा अर्चना हुई. स्वयं योगी आदित्यनाथ ने अपने ब्रह्मलीन गुरु महंत अवेद्यनाथ समेतए ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ समेत अन्य संतों की समाधि पर भी पूजन अर्चन किया.