GORAKHPUR: अपनी व्यस्त दिनचर्या में सीएम योगी आदित्यनाथ ब्रह्मलीन गुरु महंत अवेद्यनाथ की पूजा अर्चना करने के बाद गोरखपुर जनपद एवं आसपास जिलों से आए फरियादियों से भी जनता दर्शन कार्यक्रम में मिले. उनकी समस्याएं सुन संबंधित विभाग के अधिकारियों को निस्तारण के निर्देश दिए.

दोपहर 12 बजे तक सुनी समस्या

हिन्दू सेवाश्रम में लगे जनता दर्शन कार्यक्रम में सीएम ने सुबह 10.30 से 12 बजे तक 150 के करीब फरियादियों से मिले. खराब मौसम के बावजूद तकरीबन 500 की संख्या में फरियादी निर्धारित समय 9.30 बजे तक मंदिर पहुंच गए थे. इनमें से अधिकारियों ने 200 लोगों को हिन्दू सेवाश्रम के अंदर लगी कुर्सियों पर बिठा दिया. मुख्यमंत्री के निर्देश पर मुख्यमंत्री जनसुनवाई केंद्र के प्रभारी मोती लाल सिंह, जिलाधिकारी के विजयेंद्र पांडियन, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर ने हिन्दू सेवाश्रम में बैठे फरियादियों के बीच जाकर उनकी शिकायतें लीं, समाधान का आश्वासन दिया. उधर हिंदू सेवाश्रम के बाहर मुख्यमंत्री से मुलाकात का इंतजार कर रहे फरियादियों से डीएम, एसएसपी एवं विभिन्न तहसीलों के एसडीएम ने शिकायत ली और समस्या के समाधान का आश्वासन दिया. खुले आसमान के नीचे भीग रहे फरियादियों में अपने हाथों मुख्यमंत्री तक समस्याएं न पहुंचा पाने का मलाल उनके चेहरों पर स्पष्ट दिख रहा था. हालांकि अधिकारियों ने उन्हें आश्वस्त किया कि उनका शिकायती पत्र मुख्यमंत्री तक अवश्य पहुंचा दिया जाएगा.

दिव्यांग सुशीला ने लगाई आवास व शौचालय की गुहार

गाजीपुर जिले के दीनापुर गांव से दिव्यांग सुशीला अपने भाई श्यामा की पीठ पर सवार होकर प्रधानमंत्री आवास एवं शौचालय की मांग लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलीं. सीएम ने आश्वस्त किया कि उन्हें आवास एवं शौचालय उपलब्ध कराया जाएगा. सुशीला ने उन्हें याद दिलाया कि पूर्व में उन्हें दिया प्रार्थना पत्र विकलांग कल्याण विभाग में पड़ा है. दूसरी ओर ग्राम पंचायत अधिकारी कार्यालय में आवास के बदले धन की मांग की जा रही है. सीएम ने कहा कि उनकी शिकायत पर कार्रवाई होगी. श्यामा ने बताया कि सुशीला की शादी नहीं हुई, वह बुजुर्ग पिता बेचन राम के साथ रहती है. पिता बेचन राम भी दिव्यांग हैं. उसने बताया था कि रक्षाबंधन से पहले उम्मीद थी कि आवास मिल जाएगा तो बहन को वही उपहार होगा लेकिन अभी तक नहीं मिला.