-युवा संमागम कार्यक्रम में सीएम नीतीश कुमार पर एक छात्र ने फेंकी सैंडल, पुलिस ने बताया मेंटल

-छात्र ने कहा, बेरोजगारी का गुस्सा सीएम पर निकाला

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन् : गुरुवार को सीएम नीतीश कुमार बापू सभागार में छात्र राजनीति के विषय पर बोलने के लिए खड़े थे, उसी वक्त उन्हें निशाना बनाते हुए एक छात्र ने चप्पल फेंक दिया. इस घटना के बाद सभागार में अफरा-तफरी का माहौल बन गया. मौके पर ही पुलिस ने उसे दबोच लिया. उसकी पहचान औरंगाबाद जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के खैरी गांव के रहने वाले युवक चंदन सिंह के तौर पर की गई है. हालांकि इसमें सीएम नीतीश कुमार बाल-बाल बच गए. एसएसपी मनु महाराज के अनुसार युवक का पूरा ब्योरा जुटाया जा रहा है. उसके बारे में यह बताया जा रहा है कि छात्र जदयू के कार्यक्रम में वह अपने जिले के एक नेता के साथ पहुंचा था. पुलिस ने कहा कि उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं है. पुलिस जांच कर रही है.

लड़की का सैंडल उठाया

जब सभी छात्र और राजनीति के विषय पर बड़ी तल्लीनता के साथ मंच पर नेताओं के भाषण सुन रहे थे. उसी वक्त, अचानक चंदन ने पास ही बैठी एक छात्रा का सैंडल उठाया और मंच की ओर फेंक दिया. इस काम को अंजाम देने के लिए वह लड़कियों की बैठने की दीर्घा की ओर कुछ देर खड़े होकर इसके लिए इंतजार भी किया और मौका पाते ही मंच पर चप्पल फेंक डाला. चंदन बीए ऑनर्स का छात्र है. उसके पिता विमलेश सिंह बीमार हैं और रांची में इलाजरत हैं. घटना के बाद मंच की सुरक्षा तत्काल बढ़ा दी गई.

राजनीति सुधरना है जरूरी

सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि राजनीति अगर ठीक नहीं हुई तो देश को आगे बढ़ाना संभव नहीं. राजनीति महत्वपूर्ण चीज है. आज कटुता का माहौल बनाने की कोशिश होती है. तर्क से कोई मतलब नहीं और लोग राजनीति करते हैं. गांधी ने कहा है कि सिद्धांत के बगैर राजनीति सामाजिक पाप है. लोकनायक जयप्रकाश नारायण की जयंती के मौके पर छात्र जदयू द्वारा विराट छात्र संगम का आयोजन किया गया था.

प्रतिबद्ध होकर आएं राजनीति में

सीएम नीतीश ने कहा कि राजनीति में आजकल वैचारिक स्तर पर कोई बात नहीं होती. किस तरह सत्ता हासिल करें इसी पर बात हो रही. नई पीढ़ी को राजनीति में आना चाहिए पर सिद्धांत के प्रति समर्पण का भाव और धैर्य रखें. प्रतिबद्ध होकर राजनीति में आएं. सिद्धांत के प्रति प्रतिबद्धता होगी तभी आगे बढ़ेंगे. राजनीति में आने का मतलब यह भी नहीं कि आप पढ़ना-लिखना छोड़ दें.

जेपी का लक्ष्य अब भी अधूरा

ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि जेपी आंदोलन के समय यह नारा था कि नया बिहार बनाना है, भ्रष्टाचार मिटाना है. क्या भ्रष्टाचार मिटा और नए बिहार का निर्माण हुआ? अगर हां तो हमें कुछ नहीं कहना है. उन्होंने कहा कि समाज में चेतना बढ़ाने के लिए इतिहास से सबक लेकर आगे बढ़ना है. ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार, छात्र जदयू के प्रभारी विधान पार्षद प्रो. रणवीर नंदन, पूर्व मंत्री अशोक चौधरी व जदयू प्रवक्ता प्रो. सुहेली मेहता ने भी अपने विचार रखे. कार्यक्रम की अध्यक्षता छात्र जदयू के अध्यक्ष श्याम पटेल, विधान पार्षद संजय गांधी, निरंजन मेहता ने की.

प्रशांत छात्र नेताओं के प्रशिक्षण कार्यक्रम में रहेंगे मौजूद

जदयू में विधिवत रूप से शामिल होने के बाद प्रशांत किशोर पहली बार जदयू के किसी आयोजन में पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच मौजूद थे. सीएम के बगल में जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह और उनके करीब में बैठे थे प्रशांत किशोर. छात्र जदयू के प्रभारी प्रो. रणवीर नंदन को प्रशांत किशोर ने यह आश्वस्त किया वह छात्र जदयू के होने वाले प्रशिक्षण शिविर में मौजूद रहेंगे.