शाम ढलते ही दरोगा को थाना सौंपकर लौट जाते हैं घर

सीओ व इंस्पेक्टर को अपने सर्किल में रहने का दिए निर्देश

Meerut. अब बीट कांस्टेबल की तरह सर्किल के सीओ, इंस्पेक्टर व एसओ भी देर रात तक सड़क पर गश्त करते हुए दिखाई देंगे. वह एसएसपी को बताए बिना अपना सर्किल नहीं छोड़ पाएंगे. एसएसपी की जांच में सामने आया है कि सीओ, इंस्पेक्टर व एसओ रात दस के बाद सर्किल में गश्त नहीं करते हैं, जिससे बदमाशों के हौसले बुलंद हो जाते हैं. एसएसपी अखिलेश कुमार का कहना है कि रात्रि में रैंडम चेकिंग की जाएगी. अगर कोई गश्त पर नहीं मिला तो उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी.

आशियाना शहर में

देहात सर्किल में तैनात कई सीओ, इंस्पेक्टर व एसओ का आशियाना शहर में है. वह शाम ढलते ही देहात से शहर में अपने घर आ जाते हैं. इसके बाद पूरा थाना सिपाहियों व दरोगा के हाथ में आ जाता है, जिससे क्षेत्र में बदमाशों के हौसले बुलंद हो जाते हैं और क्राइम का ग्राफ बढ़ जाता है. इसके साथ कई शहर के सीओ व इंस्पेक्टर भी अपना सर्किल छोड़कर दूसरे जिले में चले जाते हैं. एसएसपी अखिलेश कुमार का कहना है कि सभी पुलिस अफसरों को निर्देश जारी किए गए हैं कि वह अपने सर्किल में देर रात तक गश्त करे.

कम हो सके अपराध

शहर में लगातार बढ़ते हुए अपराध को लेकर पुलिस अधिकारी सकते में आ गए है. इसलिए पुलिस ने यह कदम उठाया है. एसएसपी का कहना है कि छानबीन में निकल कर आया है कि सीओ व इंस्पेक्टर अपने सर्किल में नहीं रहते है. जिसके कारण वारदात होने पर अन्य कर्मचारियों के लिए हालात संभालना मुश्किल हो जाता है. जब तक अधिकारी पहुंचते हैं, वहां पर बवाल हो चुका होता है.

आए दिन मुठभेड़

क्राइम का ग्राफ कम करने के लिए लगातार मुठभेड़ हो रही है. एक हफ्ते में पांच बदमाश पैर में गोली लगने के बाद गिरफ्तार भी हो चुके हैं, लेकिन फिर भी क्राइम का ग्राफ कम नहीं हो रहा है.

रंजिश में हत्याएं

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि हत्याएं रंजिशन हो रही है, जबकि डकैती भी रेकी के बाद डाली गई है. सभी घटनाओं पर सर्किल अधिकारियों से जवाब तलब किया जा रहा है.

शहर में क्राइम का ग्राफ कम करने के लिए शहर व देहात में सीओ व इंस्पेक्टर को रात में गश्त करने के आदेश दिए हैं.

अखिलेश कुमार, एसएसपी