- पांच करोड़ की लागत से 520 पेडों पर की जानी थी लाइटिंग

- नेशनल मॉन्यूमेंट अथॉरिटी ने प्रस्ताव को किया खारिज

- पेड़ों पर ऑटोमेटिक लाइटिंग की अनुमति देने से इंकार

agra@inext
AGRA :स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत ताज में पेड़ों पर की जानी वाली रंग-बिरंगी लाइटिंग का प्रस्ताव अधर में लटक गया है। स्मार्ट सिटी के इस प्रोजेक्ट को नेशनल मॉन्यूमेंट अथॉरिटी ने खारिज करते हुए अनुमति देने से इंकार कर दिया है। इससे ताज को टूरिस्ट के आकर्षण का केन्द्र बनाने की कोशिशों पर फुल स्टॉप लग गया है। बता दें कि ताज के पूर्वी और पश्चिमी गेट पर पांच करोड़ की लागत 520 पेड़ों पर रंग-बिरंगी लाइटिंग की जानी थी।

पिछले एक वर्ष से चल रही थी कवायद
शहर को एक हजार करोड़ की लागत से स्मार्ट सिटी में विकसित किया जाना है। इसके तहत ताज को आकर्षक बनाने के लिए गत वर्ष ताज के पूर्वी और पश्चिमी गेट पर पांच करोड़ की लागत से 520 पेड़ों पर लाइटिंग करने का प्रस्ताव तैयार किया गया था। इसमें ताज के पश्चिमी गेट पर 420 और पूर्वी गेट पर 100 पेड़ों पर लाइटिंग होनी थी। प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा इसकी अनुमति के लिए नेशनल मॉन्यूमेंट अथॉरिटी को प्रस्ताव भेजा गया। मीटिंग में इस प्रस्ताव को रखा गया तो एनएमए ने इस प्रस्ताव को खारिज करते हुए पेड़ों पर लाइटिंग के लिए अनुमति देने से इंकार कर दिया है।

ये थी लाइटिंग की खासियत
ताज के 500 मीटर के दायरे में 520 पेड़ों पर जो लाइटिंग प्रस्तावित थी, उसमें एक लाइट पर पांच लाख रुपये का खर्च तय किया गया था। स्मार्ट सिटी के प्रस्ताव के तहत इन लाइटों की खास विशेषता थी कि इन लाइटों की रंगत मौसम, त्योहार, उत्सव के समय अपने आप बदल जाती। चांदनी रात में लाइटिंग उसी रंग की हो जाती। इसमें ऑटोमेटिक सिस्टम लगाया जाना था।

ताज से जुड़े 11 प्रस्तावों में से 10 को मिली अनुमति
स्मार्ट सिटी से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हमने 11 प्रस्ताव एनएमए को भेजे थे, जिनमें से 10 को अनुमति मिल चुकी है। ताज में रंग-बिरंगी लाइटिंग के प्रस्ताव को खारिज कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि हम उसके लिए विकल्पों की तलाश कर रहे हैं। अब इसके मैप का अध्ययन किया जाएगा।

इन प्रस्तावों को मिली एनएमए की अनुमति

- हेरीटेज वॉक-वे

- ताज के दो किमी। के दायरे में सुन्दरीकरण का काम

- ताज के माइनर रोड पर सीवर और वाटर सप्लाई

- हेल्थ क्योस्क सेंटर

- 500 मी के दायरे में आकर्षक पौधारोपण

नोट: स्मार्ट सिटी के तहत ऐसे 10 प्रस्तावों को एनएमए से अनुमति मिल चुकी है।

स्मार्ट सिटी के तहत 23 प्रोजेक्ट को मिल चुकी है अनुमति 15 रनिंग में

-23 कुल परियोजना स्मार्ट सिटी के तहत कार्य होना है

- 1364.06 करोड़ कुल लागत 23 परियोजनाओं की

शहर को स्मार्ट बनाने के लिए 23 प्रोजेक्ट को अनुमति मिल चुकी है। स्मार्ट सिटी से जुड़े अफसरों के अनुसार अभी 15 प्रोजेक्ट रनिंग में हैं। स्मार्ट सिटी में पीपीपी (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) मोड पर कुल 17 योजनाओं पर कार्य किया जाना है। इन 17 परियोजनाओं की लागत 1189.99 करोड़ रुपये है। अफसरों की मानें तो 10 परियोजनाओं पर कार्य समाप्त हो चुका है। शेष सात परियोजनाओं का कार्य अभी प्रगति पर बताया जा रहा है। इसमें अभी तक केन्द्रांश से 25.38 करोड़ और 376.61 करोड़ एवं निकाय से 0.67 करोड़ की धनराशि प्राप्त हो चुकी है। इस प्रकार कुल 408.76 करोड़ प्राप्त हुए हैं। इसमें से 311.37 करोड़ की धनराशि खर्च हो चुकी है। दो परियोजनाओं जिसमें ताज ओरिएन्टेशन और इंटरनेशनल कैफे परियोजना का कार्य सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर रुका हुआ है।

स्मार्ट सिटी के कार्यो पर एक नजर

प्रोजेक्ट का नाम टोटल प्रोजेक्ट कॉस्ट

माइक्रो स्किल डवलपमेंट सेंटर 2.01 करोड़

जंक्शन इंम्प्रूवमेंट सिविल 6.97

अपग्रेडेशन नगर निगम स्कूल 1.24

नगर निगम हेल्थ सेंटर, जच्चा बच्चा केन्द्र 3.40

सेल्फ क्लीनिंग टॉयलेट 3.99

ब्यूटीफिकेशन स्ट्रीट स्केपिंग 105.88

डवलपमेंट ऑफ हेरीटेज वॉक 3.46

ताज ईस्ट ड्रेनेज 26.09

दो किमी। के दायरे में सुन्दरीकरण 3.08

इम्प्रूवमेंट ऑफ ट्रेडीशनल हाउस 0.97

एमएसआई कंट्रोल सेंटर 282.65

आईसीसीसी 2.08

निगम के स्कूलों में डिजिटल कक्षा 0.61

स्ट्रीट वेन्डिंग जोन 3.33

पेन सिटी 2.22

-----------------------------------------------------------