राजस्व निरीक्षक के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने के दिए आदेश

MEERUT। कमिश्नर ने मंगलवार को कलक्ट्रेट का निरीक्षण किया। इस दौरान खामियां नजर आने पर कमिश्नर ने कई अधिकारियों व कर्मचारियों को जमकर लताड़ा तो कई अन्य के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दे डाले। जिसके चलते कलक्ट्रेट में अधिकारियों व कर्मचारियों में खलबलीची रही।

कार्रवाई को कहा

मंगलवार को कमिश्नर अनीता सी। मेश्राम अपने तय समयानुसार कलक्ट्रेट के निरीक्षण पर पहुंची। जहां उन्हें गार्ड आफ आनर दिया गया। इसके बाद उन्होंने कलक्ट्रेट का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने सभी अनुभागों व पटलों के कायरें को एक-एक कर देखा व आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने शस्त्र अनुभाग का निरीक्षण करते हुए शस्त्रों के नवीनीकरण की प्रक्रिया को वेबसाइट पर अपलोड करने के लिए निर्देशित किया। साथ ही कई अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

चार्जशीट के निर्देश

इसके बाद कमिश्नर ने कलक्ट्रेट में पत्रावलियों का रख-रखाव ठीक प्रकार से करने व उनको ठीक स्थिति में रखने, ज्येष्ठता सूची को तैयार रखने के लिए कर्मचारियों को निर्देश दिए। इसके साथ उन्होंने भूलेख लिपिक द्वारा राजस्व निरीक्षक व चैनर की भविष्य निधि की पुस्तिकाओं में तीन माह की प्रविष्टियां अंकित न करने पर उसके विरूद्ध चार्जशीट दाखिल कर विभागीय कार्रवाई करने के लिए निर्देश्िात किया।

पूछा, बॉयोमेट्रिक ठीक है या नहीं

निरीक्षण के दौरान कमिश्नर ने पूछा कि कलक्ट्रेट में लगी बॉयोमेट्रिक मशीन ठीक है नहीं। उनके सवाल पूछते ही अधिकारी बगले झांकने लगे। उन्हें समझने में देर न लगी कि मशीन खराब पड़ी है। उन्होंने कहा कि इससे तुरंत ही ठीक कराया जाए।

अवैध खनन पर लगे रोक

कमिश्नर ने खनन अधिकारी को निर्देश दिए कि वह जिले में अवैध खनन न होने दें। इसके लिए वह भ्रमणशील रहकर कार्य करें। इसके साथ उन्होंने संग्रह अनुभाग का निरीक्षण करते हुए निर्देशित किया कि बैंक व विद्युत आरसी को बैंक व वि़द्युत विभाग से मिलान कर उसकी रिकवरी कराएं।

164 मुकदमे हैं पेंडिंग

निरीक्षण के बाद डीएम कार्यालय में बैठक करते हुए कमिश्नर के समक्ष आया कि कलक्ट्रेट में सभी न्यायालयों में करीब 164 मुकदमे वर्तमान में पेंडिंग पड़े हैं। जिसके बाद कमिश्नर ने वादों का गुणवत्तापरक निस्तारण करने के लिए आधिकारियों को निर्देशित किया।

ये रहे मौजूद

इस अवसर पर जिलाधिकारी अनिल ढींगरा, अपर जिलाधिकारी (नगर) मुकेश चंद्र, प्रशासन रामचंद्र, वित्त/राजस्व, आनंद शुक्ला, नगर मजिस्ट्रेट, शैलेंद्र प्रताप सिंह, उप-जिलाधिकारी सदर, निशा अनंत, मवाना, अंकुर श्रीवास्तव, सरधना अमित कुमार भारतीय, एसीएम सुनिता, अमिताभ यादव सहित अधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित रहे।