मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने रद कर दीं सभी पुरानी कमेटियां

कैंपस आवास में अवैध तरीके से रहने वालों की संख्या काफी

Meerut. लाला लाजपत राय स्मारक मेडिकल कॉलेज परिसर में अवैध रूप से रहने वाले बाहरी लोगों पर लगाम कसने के लिए मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने कमर कस ली है. इस कार्य के लिए पहले बनाई गई सभी कमेटियों को रद करते हुए प्रशासन ने नई कमेटी का गठन कर दिया है.

यह है मामला

मेडिकल कॉलेज के कैंपस में बने आवासीय क्षेत्र मे करीब 550 आवास बने हुए हैं. इन आवासों में सिर्फ मेडिकल कॉलेज में कार्यरत स्टॉफ ही रह सकता है. पिछले दिनों मेडिकल कॉलेज में शराब कांड व सीएमएस से मारपीट का मामला होने के बाद हुई जांच में कई आवासों में बाहरी लोगों के रहने की बात सामने आई है.

छह सदस्य कमेटी

जिसके बाद मेडिकल कॉलेज प्रशासन ने ऐसे करीब 100 आवासों को चिंहित किया है, जिसमें अवैध रूप से बाहरी लोग निवास कर रहे हैं जबकि यह आवास कर्मचारियों और जूनियर डॉक्टर्स को एलॉट किए गए थे. इन आवासों को खाली करवाने और इनका सत्यापन करवाने के लिए छह सदस्यी कमेटी बनाई गई है. जिससे थर्ड, फोर्थ लेवल कर्मचारी व जेआर के निवासों का सत्यापन करवाया जाएगा. वहीं गलत तरीके से रहने और आवास का आवंटन करने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी.

कमेटी में शामिल

कमेटी में डॉ सुभाष सिंह, डॉ. एसके पालीवाल, डॉ. विभू साहनी, डॉ. अजीत कुमार, डॉ. योगिता सिंह व मैट्रन को इसमें शामिल किया गया है.

मेडिकल कॉलेज में हुए आवास आवंटन के लिए गठित की गई सभी पुरानी कमेटियों को निरस्त कर नई कमेटी को सत्यापन का काम सौंपा गया है.

डॉ. रमेश चंद गुप्ता, प्रिंसिपल, मेडिकल कॉलेज