रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम

-दिल्ली-मेरठ रूट के लिए डिटेल्ड डिजाइन कन्सल्टेंट की हुई नियुक्ति

-कमिश्नर ने गठित की कमेटी, सर्किल रेट्स बढ़ाने पर कमेटी करेगी फैसला

आई एक्सक्लूसिव

अखिल कुमार

मेरठ: दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल के रास्ते में डेवलेपमेंट को ध्यान में रखते हुए इन इलाकों की जमीनों के रेट बढ़ाए जाने की तैयार कर ली गई है. हाल ही में कमिश्नर की ओर से नए रेट्स की स्टडी करने के लिए कमेटी बनाई गई है. उधर, नेशनल कैपिटल रीजन ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (एनसीआरटीसी) ने रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) एक स्पेनिश और एक फ्रेंच कंपनी को डिटेल्ड डिजाइन कन्सल्टेंट नियुक्त किया है.

कमिश्नर ने गठित की कमेटी

केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी रैपिड रेल परियोजना को प्रदेश सरकार की सहमति मिलने के बाद मंडल प्रशासन ने बड़े पैमाने पर प्रयास तेज कर दिए हैं. मोदीनगर और परतापुर पर रैपिड रेल का डिपो बनने के साथ ही ट्रैक के आसपास मिनी सिटीज के डेवलेप होने की उम्मीद है. एनसीआरटीसी इन मिनी सिटीज को विदेशी तर्ज पर तैयार करना चाहता है, जिसके लिए बड़े पैमाने पर भूमि अधिग्रहण की योजना है.प्रदेश सरकार की सहमति पर इन क्षेत्रों के सर्किल रेट्स और रजिस्ट्री चार्जेज को बढ़ाया जाएगा. कमिश्नर डॉ. प्रभात कुमार के निर्देशन में इन रेट्स को तैयार करने के लिए कमेटी बनाई गई है. यह रैपिल रेल के रूट और उसके आसपास के एरिया को कर्मशली यूटीलाइज करने पर सर्वे कर रही है. मेरठ विकास प्राधिकरण, रजिस्ट्री डिपार्टमेंट समेत विभिन्न विभागों के अफसर इस टीम में शामिल हैं.

कंसल्टेंट नियुक्त

एनसीआरटीसी के प्रवक्ता सुधीर शर्मा ने बताया कि एनसीआरटीसी ने आरआरटीएस के दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ कॉरीडोर के लिए डिजाइन परामर्शदाता के रूप में स्पेनिश कंपनी मैसर्स ईजीआईएस रेल मैसर्स आईएनईसीओ और फ्रेंच कंपनी मैसर्स ईजीस इंडिया के कंसोर्टियम को नियुक्त किया है. परामर्शदाता ट्रैक की ऊंचाई, हाई स्पीड डायमेन्शन, ट्रैक, कर्व और मैटेरियल आदि सामान्य मानदंडों के विस्तृत डिजाइन की रिपोर्ट देंगे.

एनसीआर को मिलेगी राहत

-35 हजार वर्ग किमी में 35 लाख से ज्यादा लोग काम के लिए करते हैं लंबी यात्रा.

-3.5 लाख कारें दौड़ती हैं रोजाना एनसीआर में.

-24 लाख लोग रोजाना करते हैं मेट्रो में सफर.

-4.6 करोड़ की आबादी एनसीआर क्षेत्र की.

एनसीआर में 3 आरआरटीएस कॉरीडोर

कॉरीडोर दूरी स्टेशन

दिल्ली-पानीपत 110 12

दिल्ली-अलवर 180 19

दिल्ली-मेरठ 90 17

---

रैपिड रेल से दिल्ली-मेरठ के बीच मिनी सिटीज डेवलेप होंगे तो इस क्षेत्र का विकास तेजी से होगा. यूपी गर्वमेंट महत्वाकांक्षी परियोजना के आसपास समग्र विकास की योजना बना रही है. एक कमेटी डेवलेपमेंट के साथ-साथ भूमि अधिग्रहण, सर्किल रेट्स आदि के निर्धारण के लिए गठित की गई है.

डॉ. प्रभात कुमार, कमिश्नर, मेरठ मंडल