- मृतक के परिजनों ने डॉक्टर पर लगाया लापरवाही का आरोप

-एसपी सिटी ने सीओ को सौंपी जांच, बोले- निष्पक्ष कार्रवाई होगी

bareilly@inext.co.in
BAREILLYमरीज के परिजनों पर पांच लाख की फिरौती मांगने का मुकदमा दर्ज होने के बाद मनडे को दूसरा पक्ष भी पुलिस अधिकारियों के पास पहुंचा। मरीज के परिजनों ने डा। ब्रजेश्वर सिंह पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराने की मांग की है।

आईसीयू में नहीं था कोई
पीलीभीत मझोला के रहने वाले मदन लाल अग्रवाल का कहना है कि सड़क दुर्घटना में घायल होने के बाद उन्होंने अपने बेटे अमित अग्रवाल को सिद्धि विनायक अस्पताल में भर्ती कराया था। यहां 13 अप्रैल को डॉक्टरों ने अमित की छाती में एक नली डाली और काफी खून ब्लड क्लॉट के नाम पर निकाल लिया। इसके बाद से अमित की तबियत खराब होनी शुरू हो गई। उसे आईसीयू में भर्ती कराया गया, जहां मरीज को देखने वाला कोई नहीं था। मरणासन्न स्थिति होने पर उन्हें दूसरे अस्तपाल रेफर किया गया, जहां डाक्टरों ने अमित को मृत घोषित कर दिया।

इलाज के बारे में नहीं दी जानकारी
मदन अग्रवाल का आरोप है कि डाक्टर ब्रजेश्वर सिंह व अस्पताल के स्टाफ की लापरवाही से अमित की मौत हुई है। उन्होंने डॉक्टर से इलाज के बारे में जानकारी व कागज मांगे जो उन्होंने नहीं दिए। बल्कि उन पर झूठा मुकदमा दर्ज करवा दिया।

एमसीआई की गाइड लाइन भी ताक पर
एमसीआई की गाइड लाइन की बात करें तो मरीज अगर अस्पताल प्रबंधन से इलाज संबंधी रिकॉर्ड मांगता है तो उसे 72 घंटे के भीतर ही रिकॉर्ड उपलब्ध कराने का नियम है, लेकिन अमित के भाई कपिल ने जब अस्पताल प्रबंधन से रिकॉर्ड मांगे तो साफ इंकार कर दिया गया।

एसपी सिटी ने सौंपी जांच
अमित के परिजनों ने एसपी सिटी से मिलकर रंगदारी के मुकदमे को झूठा बताते हुए उसे खत्म करने व डा। ब्रजेश्वर सिंह व अस्पताल के प्रबंधन के खिलाफ बेटे की लापरवाही से मौत होने का मुकदमा दर्ज कराने की मांग की। एसपी सिटी ने सीओ को जांच सौंपते हुए निष्पक्ष कार्रवाई का आश्वासन परिजनों को दिया।

मृतक के परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर ने झूठा मुकदमा लिखाया है। मामले की जांच सीओ को सौंपी है। जांच के आधार पर ही कार्रवाई की जाएगी।

अभिनंदन सिंह, एसपी सिटी.