PRAYAGRAJ: केंद्र सरकार की नोट बंदी एक साजिश और डिजिटल लेनदेन करने वाली कंपनियों की मिलीभगत का परिणाम है. देश में प्रचलित 86 प्रतिशत करेंसी को रातों-रात बंद कर देश की अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया गया. यह बातें शनिवार को पूर्व विधायक व अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सीडब्लूसी सदस्य एवं उत्तराखण्ड प्रभारी अनुग्रह नारायण सिंह ने कही. अशोक नगर स्थित एक रेस्टोरेंट में वे प्रेसवार्ता कर रहे थे. पीएम नरेंद्र मोदी को आड़े हाथ लेते हुए उन्होंने कहा कि उनका यह कदम अहंकारी, निष्ठुरता एवं विदेशी व देश की कंपनियों को फायदा पहुंचाने वाला था. नोट बंदी से काले धन की समाप्ति, नकली नोट की रोकथाम, नक्सल व आतंकियों के वित्तीय ढांचे को ध्वस्त करने जैसी बातें केवल छलावा साबित हुई हैं.

भंडारे में उमड़ी भीड़

मनमोहन पार्क स्थित मां काली मंदिर में हुए भंडारे में हजारों लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया. भंडारे का आयोजन पांच कन्याओं के पूजन के बाद किया गया. आयोजन मंदिर के पुजारी गोपाल गोस्वामी की देखरेख में हुआ. इस मौके पर शंकर लाल गुप्ता, बबलू चौरसिया, राजू डैडी, रमेश चंद्र केसरवानी, गोपाल तिवारी आदि मौजूद रहे.

मजीदिया में महोत्सव का आगाज

मजीदिया इस्लामिया इंटर कालेज के सौ वर्ष पूरा होने के अवसर पर शनिवार को पांच दिवसीय शताब्दी महोत्सव का आगाज हुआ. पहले दिन देश की उन्नति व विकास में अल्पसंख्यक संस्थाओं के योगदान विषय पर हुई संगोष्ठी में नालसार विश्वविद्यालय, हैदराबाद के कुलपति प्रो. फैजान मुस्तफा ने विषय की महत्ता पर प्रकाश डाला.