देहरादून: पेट्रोल-डीजल की कीमतों में भारी वृद्धि और बढ़ती महंगाई को लेकर कांग्रेस के भारत बंद का राज्य में मिलाजुला असर देखा गया. कुछ जिलों में बंद का व्यापक असर रहा तो कुछ में आंशिक. इस दौरान बंद समर्थक दलों में तालमेल की कमी देखी गई.

मिला-जुला असर

गढ़वाल मंडल के जिलों में बंद का असर ज्यादा रहा. चमोली और गोपेश्वर में दोपहर तक बाजार एवं पेट्रोल पंप बंद रहे. जबकि, रुद्रप्रयाग में दोपहर तक दुकानें बंद रहीं. मुख्यालय में कांग्रेसियों ने केंद्र के खिलाफ नारेबाजी की. पौड़ी जिला मुख्यालय में कांग्रेसी ने विरोध-प्रदर्शन किया. टिहरी और घनसाली में बाजार दोपहर तक बंद रहा. उत्तरकाशी में बंद का असर आंशिक रहा. हरिद्वार में बंद का मिलाजुला असर रहा. दोपहर 12:30 बजे बाद अधिकतर दुकानें खुल गई. वहीं प्रदेश मुख्यालय देहरादून में बंद का व्यापक असर देखा गया. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नेतृत्व में कांग्रेसियों ने कई बाजार जबरन बंद करवाए. इस दौरान कांग्रेसियों की भाजपा एवं व्यापार मंडल से झड़प भी हुई. कुमाऊं मंडल के पिथौरागढ़ जिले में जिला मुख्यालय और मदकोट में बाजार और शिक्षण संस्थान बंद रहे. टैक्सी संचालन भी ठप रहा. बागेश्वर में कांग्रेसियों ने जोरदार प्रदर्शन किया. कांग्रेस समर्थित व्यापारियों के प्रतिष्ठान भी बंद रहे. अल्मोड़ा में व्यापक बंद रहा. शहर से लेकर गांव तक बाजार व स्कूल बंद रहे. चंपावत में बंद बेअसर रहा. यहां चारों ब्लॉकों में व्यापारियों ने अपने प्रतिष्ठान खुले रखे, ऊधमसिंह नगर जिले में केवल रुद्रपुर में बंद का असर देखने को मिला.