बोले, इतनी बड़ी घटना के बाद इस क्षेत्र का सांसद कर्नाटक का जश्न मनाने में बिजी

varanasi@inext.co.in

VARANASI : कैंट स्टेशन के पास हुए फ्लाईओवर हादसे में घायलों का हाल जानने के लिए बुधवार को कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर भी बनारस पहुंचे. वे सबसे पहले मंडलीय हॉस्पिटल गए. यहां उन्होंने हादसे में घायलों को देखने के बाद प्रदेश सरकार पर हमला बोला. कहा कि पीएम के संसदीय क्षेत्र में इतना बड़ा हादसा हुआ मगर पीएम यहां आने की बजाय कर्नाटक चुनाव का जश्न मनाने में बिजी रहे. कहा कि उन्हें पता चला है कि सरकार 2019 लोकसभा चुनाव से पहले हर निर्माण कार्य पूरा कराने की जल्दी में है. इससे साफ हो गया है कि यहां दबाव में काम हो रहा है. राज बब्बर अन्य घायल मरीजों का हाल जानने के लिए बीएचयू ट्रामा सेंटर भी पहुंचे. यहां भी वे सरकार पर जमकर बरसे.

पीडब्ल्यूडी मंत्री दें इस्तीफा

दोपहर करीब एक बजे हॉस्पिटल पहुंचे राज बब्बर ने वहां एडमिट तीनों घायल मरीज और उनके परिजनों से मिलकर उनका हाल जाना. उन्होंने कहा कि सिर्फ अधिकारियों को सस्पेंड कर देने से इतने बड़े हादसे पर पल्ला नहीं झाड़ा जा सकता. इतनी बड़ी घटना के लिए पीडब्ल्यूडी मिनिस्टर की नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि वे भी इस्तीफा दें. साथ ही उन्होंने कहा कि किन क्षेत्रीय मंत्रियों के दबाव में मानकों की अनदेखी कर तेजी से निर्माण हो रहा था, इसकी भी जांच होनी चाहिए. साथ ही कहा कि तीन साक्षी विनायकों का मंदिर भी तोड़ा गया है.

मृतकों को मिले 50 लाख

राज बब्बर ने कहा कि सरकार के लिए क्या लोगों के जिंदगी की कीमत सिर्फ पांच लाख है. जिन लोगों की मौत हुई है उनमें ऐसे भी हैं जो परिवार के मुखिया थे. जिनकी वजह से उनकी जीविका चलती थी. ऐसे में मृतकों को पांच लाख का मुआवजा देकर पल्ला झाड़ लेना ठीक नहीं है. इनके परिजनों को कम से कम 50-50 लाख रुपया मिलना चाहिए. इसी तरह से घायलों को 20-20 लाख रुपया मिले. राज बब्बर ने कहा कि देश के किसी भी हिस्से में ऐसी कोई भी दुर्घटना होने पर वहां का सांसद जरूर पहुंचता है. लेकिन यहां पर पीएम मोदी या उनकी ओर से किसी भी केंद्रीय मंत्री का न पहुंचना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. कहा कि कर्नाटक में सरकार बनाने के लिए 4 से 5 केंद्रीय मंत्री रवाना किए गए हैं, लेकिन बनारस में एक भी मंत्री को नहीं भेजा गया. बनारस समेत देशभर में इस तरह के निर्माण को तत्काल रोक देना चाहिए और जांच कमेटी की रिपोर्ट के बाद ही दोबारा काम शुरू हो.यदि ऐसा नहंी किया गया तो कांग्रेस पार्टी प्रदेश भर में आंदोलन करेगी.