prayagraj@inext.co.in
PRAYAGRAJ: पीडीए के बड़े कांट्रैक्टर अल्लापुर निवासी अभिषेक सिंह के इकलौते बेटे पांच वर्षीय रनवीर सिंह को मंगलवार की शाम अगवा कर लिया गया। वह जिम्मास्टिक की ट्रेनिंग लेने धोबीघाट चौराहे के पास स्थित नेशनल स्पो‌र्ट्स एकेडमी आया था। बच्चे को अगवा करने के बाद अपहर्ता ने फिरौती के रूप में तीन करोड़ रुपये की मांग परिवारवालों के सामने रख दी है। सरेशाम हुई इस घटना से पुलिस ऑफिसर भी सन्नाटे में आ गये। अपहर्ता श्री सिंह का पुराना कर्मचारी बताया गया है जिसे हाल ही में उन्होंने नौकरी से निकाल दिया था। बच्चे की सही सलामत बरामदगी के लिए पुलिस टीम को लगा दिया। एसएसपी अतुल शर्मा खुद मौके पर पहुंचे और एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव को घटना का पर्दाफाश करने के लिए लगा दिया। गनीमत की बात यह रही कि देर रात बच्चे को पुलिस ने सही सलामत बरामद कर लिया। रात 11.15 पर सुरियावां के पास पकड़े जाने के डर से अपहरणकर्ता ने खुद को गोली मार ली। उसे घायलावस्था में जिला अस्पताल भदोही ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई।

चार साल तक ड्राइवर रहा अपहर्ता
अभिषेक सिंह अल्लापुर में रहते हैं। रनवीर उनका इकलौता बेटा है। फैमिली ज्वाइंट रहती है। उनका बेटा सेंट जोसेफ कॉलेज में कक्षा एक का छात्र है। रनवीर जिम्नास्टिक की ट्रेनिंग लेने के लिए रोज नेशनल स्पो‌र्ट्स एकेडमी आता था। शुरुआती दौर में उसे लाने-ले जाने की जिम्मेदारी ड्राइवर संजय यादव संभालता था। तेलियरगंज निवासी कोच अभिलाष के अनुसार संजय यादव बच्चे को लेकर पहले आता था। उसे काम से हटा दिये जाने की सूचना उसे नहीं थी। शाम साढ़े छह बजे के करीब संजय पहुंचा और उसने रनवीर का बर्थडे के लिए शापिंग कराने ले जाना बताकर जल्दी घर ले जाने की अनुमति मांगी। कोच का कहना है कि उन्होंने इजाजत दे दी तो संजय बच्चे को लेकर चला गया। बच्चे ने भी कोई एतराज नहीं किया था।

आल्टो से पहुंचा था संजय
स्पो‌र्ट्स एकेडमी के बाहर सीसीटीवी कैमरा नहीं होने से एग्जैक्ट कौन सी गाड़ी लेकर संजय पहुंचा था यह पता नहीं चल पाया। रनवीर के अपहरण का पता परिवार के सदस्यों को तब चला जब संजय ने रनवीर के बाबा को कॉल करके फिरौती के रूप में तीन करोड़ रुपये की मांग रखी। यह सुनकर परिवार के सदस्यों के पैरों तले जमीन खिसक गयी। यह सुनकर उसकी मां तत्काल दूसरी गाड़ी से जिम्नास्टिक हॉल पहुंच गयी और पुलिस को सूचना दी। दिनदहाड़े हुई घटना की सूचना से पुलिस अफसर भी सन्नाटे में आ गये। आनन-फानन में एसएसपी, एसपी सिटी, सीओ और एसओ कैंट-सिविल लाइंस मौके पर पहुंच गये।