मैस संचालक व छात्रों के आरोपों की जांच के बाद होगी कार्रवाई

MEERUT। सीसीएसयू कैंपस स्थित केपी हॉस्टल में गुरुवार को हॉस्टल वार्डन द्वारा बुलाई गई बैठक में जमकर हंगामा हुआ। छात्र मैस संचालक को हटाने की मांग करते रहे। हंगामे को देखते हुए चीफ वार्डन ने मैस को जांच तक बंद कर दिया और छात्रों के लिए आरके हॉस्टल में खाने की व्यवस्था की। समिति के लिए 12 अलग-अलग विभागों से छात्रों के नाम मांगे गए हैं, जो मैस के खाने का मैन्यू एवं खाने की देखवाल करेगी। जांच पूरी होने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।

ये है मामला

बता दें कि सीसीएसयू में सोमवार रात छात्रो व हॉस्टल कर्मचारियों की बीच कहासुनी हो गई थी, जिसके बाद मैस संचालक द्वारा मंगलवार को खाने की व्यवस्था नहीं की गई। छात्र जब तो पढ़ने के लिए चले गए थे। मगर जैसे ही वह सभी स्टूडेंट्स आए तो उन्होंने दोपहर को खाने न खाकर मैस कर्मचारी पर कार्रवाई तथा मैस संचालक के टेंडर निरस्त करने की मांग करते हुए हंगाम व तोड़फोड़ शुरू कर दी।

स्टूडेंट्स पर आरोप

दूसरी ओर मैस संचालक ने चीफ वार्डन को पूरे मामले में सफाई देते हुए छात्रसंघ उपाध्यक्ष हंस चौधरी पर होर्डिग लगाने के लिए पैसे मांगने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। मैस संचालक ने कहा कि उस दिन देर रात छात्रों ने कर्मचारी से जबरदस्ती खाना बनवाया ओर रात को प्लेट ले जाने के लिए कहा। कर्मचारी ने मना किया तो उसे अभद्र व्यवहार करने लगे।